JUST FOUR STEPS AWAY TO FOREVER SEPARATION

Standard
I hate these three months of the year that is from April to June. It feels like these months are laughing at my shattered dreams, making fun of my emotions.
*FLASHBACK*
27th May 2013 :
“Mummy come fast. I cannot wait for a second more. ” I shouted.
” Coming ” She replied back.
I climbed down the stairs before she reached.
With big steps and pulling her fast, I reached Cyber Cafe.
” Hi, Nidhi. So early. Result hai?” Kunal bhaiya asked.
“Yes. Please open the computer fast.” I said.
In those three minutes, I had taken names of all Gods I could ever take. The crowd of students was increasing in the cafe and with each passing second, my heart beats were increasing. There were many known faces and many unknown too but the fear in every heart was same.
” 86%,” Bhaiya said.
“What? ” I was surprised.
I could not believe my ears. I was always an average student and after 5th standard, I have stopped getting more than 75%. Class 10th results were the biggest proof of it. Everyone was congratulating me. There were happiness and nervousness visible on everyone face.
It was only my mouth that was saying ‘Thank you to everyone. My heart was only shouting “Delhi University, Here I come. “ I was behaving like that teen girl who has her first crush. Butterfly were jumping in stomach in the same way that it jumps on the girl who feel her first love. When people were discussing venue for party I was just thinking “Delhi University “. In those five minutes of way from Cafe to Home I had thought everything. Which college will I get? When will the classes start? I may get my dream college too. Isn’t it? Oh! I forgot to tell you all. My excitement to study in Delhi University was at its peak. Even before the result had come I had bought bags, earrings, sandals, clothes etc.. A typical girl you see..
After reaching home the calls of relatives were waiting. I looked like a person working in some telephone company. From putting down one call to receiving that another call. But that day nothing irritated me. The day ended on a happy note.
Another day like all gangs even my squad had our plan to meet. Why will my parents stop now to go to a party? They just said ‘Yes,’ to my hangout. I was so excited to meet them all. We would be meeting after one month. We all were happy discussing which course to pursue and everyone just told their Dream College. Even I had my Dream College. With all smiles and happiness, promise to meet again soon I returned back home.
It is rightly said that excess of anything is bad. Too much happiness was just not digested in my life. Those two days happiness just turned into eyes full of tears when I reached home.
” We are leaving Delhi.” Parents said.
At once I thought it to be the only joke but the seriousness of their face just broke me.
The reasons to leave were genuine and I should have understood. But the love for Delhi, my dream for Delhi University overpowered those real reasons to leave Delhi. I tried my best to convince everyone but it was futile. With heavy heart I went to my room. From next morning I stopped talking to everyone. I started hating everything around. Parents, family members tried to make me understand but how would I understand. From the time I started living in Delhi, getting admission in Delhi University was my priority. I had said a Big No to all that hangouts, birthday parties in my 12th class. Hardly I would sleep 4 hours a day and someday it would also reduce to 2. I had worked damn hard to get good marks. No one ask 12th result when you go to college. When I had to leave Delhi, why did I just waste so much energy? I wanted to shout, fight and cry but tears did not flow. I could feel the harsh pain but could not show. Life just played dirty. Till previous evening I was counting days for when the college life would begin. From next morning the counting happened for how many days are left in Delhi.
The countdown was still happening. Just from awaiting those happy days to welcoming those sad days.
When I went to take documents from the school, I knew I was bidding bye to this place but now it was like forever. I still remember it was that day when I cried a lot. The teachers of that school were just another friend. They knew everything about us. It was that day when the pain spoke. I kept trying every day, hoped if some miracle happens but Alas destiny was already written.
Finally, 20 days finished and the calendar showed 18th June 2013. The day came when I had to say “Goodbye Delhi.” I won’t just miss the people, my friends but I would miss each lane, roads of Delhi. I have been in love with each corner of Delhi. From my Momos Corner to our gang meeting point, from those challi wale bhaiya to that tuition center from that temple visiting on every Tuesday to that sudden plan of ‘Golgappe Khane Chale? ‘ From that group studies to unlimited fun; everything was just fading in front of my eyes.
It was the first time in life when train journey did not excite me. Every year coming to Darbhanga would give me so much happiness that I would spend time with the whole family but this time I was hating that moment.
I don’t know why but why I just want to escape from these three months of the year. It feels they are haunting me. I was standing just four steps from the gates of Delhi University and could have entered my dream College but I was brought kilometers far from there. That dream of studying in Delhi University just died forever in my small heart.
People asked me why did I keep so secretive about my visit to Delhi in 2018? I just said, everyone, one-word “SURPRISE”. But the real reason was that I was afraid. Afraid of not reaching there, afraid of happiness again turning into sadness. I was afraid even after I boarded my train. Till the time I did not see ‘NEW Delhi’ board on Railway Station, I was not believing. Delhi you have always been my true love. This time you have given me much more love Delhi.

No matter where ever I stay in life, from the heart I will always be A Delhiites…

Advertisements

एक आख़िरी कोशिश आपको एहसास दिलाने की, या शायद मोहब्बत को अधूरा दफ़नाने की।

Standard

प्यार, इश्क़, मोहब्बत, इन तीनों शब्दों को मिला के देखे तो तो ये बात साफ दिखती हैं कि इन तीनों शब्दों में एक अक्षर अधूरा रह गया शायद इसलिए मेरी मोहब्बत भी कभी मुक़म्मल ना हो सकी। मेरी बस यही इच्छा थी कि अपने अधूरे प्यार को एक बार पूरा करके देखूं तो शायद जीवन को एक नई दिशा, एक नई उम्मीद मिल जाती, शायद बेरंग सी ज़िन्दगी इंद्रधनुष सी रंगीन हो जाती। इश्क़ इंसान की सबसे बड़ी ताक़त हैं, शायद जीवन को खुल कर जीने का हौसला देता हैं इश्क़। कौन कहता हैं कि इश्क़ तभी पूरा माना जाता हैं जब दो इंसान एक हो जाते हैं। दो दिलों के तार जुड़ने का नाम हैं इश्क़। मेरे लिए तो आपके लिए अपना बेपनाह मोहब्बत स्वीकारना ही सबसे बड़ी उपलब्धि हैं। ना जाने कितने ही अरसे से ये मोहब्बत दिल में छिपाए जिये जा रही थी। मेरी जीत तो उस दिन होगी जब मैं निडर भाव से आपके सामने खड़े हो कर, आंखों में आंखें डाल कर, आपसे हर उस शाम को लेखा जोखा बयान करूँगी और आप बस एकटक मेरी बातों को सुनेंगे। आसान लगता होगा न आपको मेरा सामने खड़े हो कर सारा दर्द छिपा लेना औऱ यूँ ही आपकी हर बात पर हंस देना। कैसे बीतती हैं हर रात तन्हाइयों में, ये सुनने की हिम्मत रखते हैं आप?

हमेशा मुझे लगता था कि सबसे ज़्यादा चोट एक नाज़ुक से रिश्ते के छन से टुटने से लगती हैं, लेकिन हकीकत सोच से काफ़ी परे हैं। तकलीफ़ की अनुभूति अगर करनी हो, तो किसीसे एक तरफा मोहब्बत करके देख लो। रोज़ यूँ ही आपकी नज़रों के सामने राह के भी अदृश्य सी रही हूँ मैं। ये नही कहती कि कुछ उम्मीद सी हैं आपसे। किस मुँह से मिन्नत करूँ, शायद आप को पता भी नहीं की ना जाने कितने ही ख़्वाब टूटे हैं आपके न होने से। एकतर्फे प्यार की कशक शायद ही आप समझ सके क्योंकि इस प्यार की ना कोई निश्चित मंज़िल हैं, ना कोई आसरा। हज़ारों प्रश्न हैं पर जवाब मांगू तो मांगू किससे। कोई हक नहीं हैं मेरा, ना आप पर, ना आपके खयालों पर।। आपसे मोहब्बत करना ख़ता हैं या या सज़ा, कुछ कहा नहीं जा सकता हैं। अगर ख़ता हैं तो अब हम ये गुनाह कर चुके। गलती शायद मेरी ही थी कि मैं मर्यादा का उल्लघंन करती चली गयी।। अब लाखों कोशिशों के बाद भी मेरा पीछे लौटना संभव नहीं हैं, ना आपको भूलना मुमकिन हैं।। हम बस कठपुतलियां हैं, हमारे किरदार निर्धारित हैं। हम बस निभाये जा रहे हैं।

यूँ तो फरवरी का महीना बहुत ही खास होता हैं हर प्यार करने वाले के लिए, लेकिन ये माह इसलिए भी ज़्यादा ख़ास हो जाती हैं क्योंकि इसी ही महीने में आपका जन्मदिन होता हैं। ख़ुद पर हंस पड़ती हूँ कभी कभी। एक अमोल नन्ही बालिका की तरह होठों पर एक अजीब सी मुस्कान तैर जाती हैं जब भी आपको देखती हूँ। उस दिन तो मुस्कुराहट छिप ही नही रही थी जब आपको उस ग्रे रंग के जैकेट में देखा था। एक बार बहुत हिम्मत जुटा कर आपके जैकेट की तारीफ की थी, वैसे दबे ज़ुबान में वो आपकी ही प्रशंसा थी जो शायद मैं खुल के करने के क़ाबिल नहीं। हर कोई आपका कायल हैं, आपने समझा होगा मैं भी उनमें से ही एक हूँ। आप भी क्यों हर अदने इंसान की बातें याद रखेंगे। आपकी हर गली में चर्चा तो आम हैं, लेकिन उन्हीं गलियों में एक राह ऐसी भी हैं जो दूर से देखने से सुनसान हैं लेकिन यहा अर्सों से इश्क़ आबाद हैं आपके नाम की। वक़्त भी इंसान के साथ अजीब से अजीब खेल खेलता हैं। कहा करती थी की इश्क़ हैं दिल्ली से, दिल तो आपके पास रह गया।

एक दिन बेइंतेहा व्याकुल हो कर आपकी नवीनतम तसवीर पर प्रतिक्रिया दे ही, मन नहीं माना तो चुपके से आपको ये भी बता दिया कि आपकी तस्वीर बहुत अच्छी हैं। ना जाने क्यों आपको राय दे डाली की आपको अपने उसी हाफ ग्रे जैकेट में भी एक फोटो डाल देनी चाहिए। कितनी सहजता से आपने शुक्रिया अदा किया था। मेरे नन्हे से मासूम दिल में एक नई सी उम्मीद जग गयी। इंतेज़ार में थी कि आप कभी उस जैकेट में कोई तस्वीर डाले और मैं उसे दिन भर निहार सकूँ। कमबख्त दिल तो बच्चा हैं जी, थोड़ा सा कच्चा हैं। जब भी आप पूछते हैं कि कुछ नया बताओ तो दिल तो चाहता हैं कि सब बता दूँ, दिल खोल के रख दूँ आपके सामने, लेकिन फ़िर बहकते कदमों को पीछे कर लेती हूँ।

अक्सर सुना था कि प्यार लोगों को बदल देता हैं।। जब खुद को बदलते देखा तब जा के यक़ीन हुआ। जिस हिंदी भाषा से हिचकिचाहट होती थी, आज बेहद खूबसूरत ढंग से आपके लिए अपने दिल का हाल बयाँ कर रही हूँ। कैसे सिर्फ लेख का शीर्षक देख के आपने समझ लिया था कि बहुत दर्द भरा लगता हैं। काश आप उस दर्द की गहराई का अंदाज़ा लगा पाते। एक तो समय नहीं होता आपके पास, इतने व्यस्त हैं आप। दूसरा क्यों आप मेरे लेखों को पढ़ने में उत्सुक होंगे। मेरे लिए लेख का हर अक्षर बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि हर लेख में जिस प्यार का ज़िक्र हैं वो और कोई नही आप ही हैं। समय के साथ इंसान बहुत कुछ सीख जाता हैं। पहले एक इतवार आपको देखे बिना बीतना मुश्किल होता था, वक़्त का खेल देखिए हुज़ूर आज एक साल बीत गए और आपको देखे आंखें तरस गयी। पहले जो इतवार काटना दुर्गम था अब उस इतवार का हर हफ्ते बेसब्री से इंतज़ार रहता हैं ताकि कुछ दो पल आपसे बातें हो पाए।

कभी लगा नहीं था कि यूँ बिना किसी इंसान को ना जानते हुए भी उससे बेहद मोहब्बत हो जाएगी। भीड़ में भी मेरी इंद्रिया आपकी आहटों की आवाज़ पहचान लेंगी। आपके बारे में तब भी कुछ नहीं जानती थी जब पहली दफा नज़रें मिली थी आपसे। जाना था तो बस एक हसीन सा चेहरा जिसकी एक झलक मेरे दिन को सूर्य की किरणों से ज़्यादा जगमगा देती हैं। ना आज आपके बारे में कुछ जानती हूँ जब बैरागी सी हो गयी हूँ आपकी मोहब्बत में। बस आपका नाम सुना हैं, और सुनी हैं आपकी आवाज़ जो कानों में बस सी गयी हैं। जाना हैं बस इतना कि आप संयम प्रिय हैं, आप धैर्यवान हैं, शाम में जैसे समंदर की लहरें शांत हो जाती हैं, वैसे शांति प्रिय पुरुष हैं और मैं आंधी की हवा की तरह चंचल। हर घड़ी बस एक ही तमन्ना रहती हैं कि कुछ लम्हे आपसे बातें करते हुए गुज़रे। आपकी आवाज सुनने की एक ललक दिल को झंझोर देती हैं।

पता नहीं इश्क़ आपसे हैं या आपके गंभीर स्वभाव से। इतनी कर्तव्यनिष्ठा, संजीदगी, कर्तव्यपरायणता कैसे हैं आप। आपकी वजह से मैं खुद को बदला हुआ देखती हूं। हर समय बेपरवाह तितलियों सी मचलने वाली लड़की आज धीरज धरना सीख रही हैं। इतने दिनों तक इश्क़ को खुद में संभाले रखना मुश्किल तो हैं पर मजबूर हूँ मैं। मेरा लेख पढ़ के हर कोई ये सवाल करता हैं कि क्यों हैं इतना दर्द, किसके लिए मोहब्बत संभाले चली आ रही हो। सच बताए भी तो कैसे? लेकिन हर क्षण ये ख्याल आता हैं कि कब आप ये प्रश्न उठाये और आपको सत्य बोल पाऊं। थक गई हूँ सच को झुठलाते झुठलाते।

आपने ही तो कहा था कि ज़रुर भेजना गर कुछ नया लिखो। दिल को छू जाती हैं मेरी कहानियां आपको। मन में बेचैनी अभी बची हैं। बड़े दिन हो गए उन आँखों को देखे हुए, अब उनके नाम पर ही दिल धड़क उठता हैं । भले ही दिन रात एक कर के अपने दिल की हर एक भावना इन पन्नो पर कई दफा निचोड़ डाला; पर दुविधा तो इस बात की हैं की आप पढ़ेंगे या नहीं ? खैर गलती तो आपकी भी नहीं हैं,काम की उलझनों में समय भी नहीं मिल पाता आपको । हैरानी तो हर बार मुझे खुद पर होती है की सारी वास्तविकता जानते हुए भी हर बार मुझे उम्मीद रहती है की आप मेरे शब्दों में छिपे हर एक भावनाओं को समझेंगे और मुझसे दो घड़ी ही सही पर एक बार मुझे खुल कर मेरे प्यार को कबूलने का मौका देंगे । खैर छोड़िये आपको तो हमेशा की तरह इस बार भी कोई फर्क नहीं पड़ेगा । अगर वक़्त मिलेगा तो पढ़ लेंगे आप नहीं तो ऐसे ही अनदेखा कर देंगे पिछले लेख की तरह ।

चलिए मैं ऐसे ही लिखती रहूंगी और आप हमेशा की तरह या तो समझेंगे नहीं या फिर समझ कर अनदेखा कर देंगे ।

पिछले दो लेखों की तरह; यह लेख भी इस बात पर ही खत्म करूंगी कि इश्क मुकम्मल हो यह ज़रूरी तो नहीं । प्यार ज़ाहिर हो ये महत्वपूर्ण हैं । साल भर से ज़्यादा हो गए उस एक पल का इंतज़ार करती हूँ जब आपके सामने अपने दिल मे छुपे हर एक शब्द कह जाऊं और आप चुप चाप सुने मेरे हर एक ज़ज़्बात को, हर एक दर्द को । भले सुनने के बाद आप मुझे यह ही कह दे की मैं आपके काबिल नहीं । यकीन हैं मुझे अपने ऊपर की मैं यह सत्य आपके मुँह से सुन कर भी अपने चेहरे पर वही मुस्करात कायम रखूँगी ।भले ही मेरा प्यार अधूरा रह गया , पर दुआ है अल्लाह से की आप को जिस से भी इश्क़ हो वह मुक्कमल ज़रूर हो । आपको न पाने का दुःख भले सारी उम्र रहे पर आपको पाने की कोशिश न करना का मलाल तो नहीं रहेगा।

एक अधूरी दोस्ती

Standard

सुनो,तुम याद तो बहुत आती हो लेकिन तुम्हें अब सिर्फ याद ही कर सकती हूँ । तुम शायद भूल गईं हो मुझे, हमारी दोस्ती को, साथ बिताए हर एक पल को लेकिन मुझे तो आज भी सब याद है । कई बार ऐसा महसूस होता है जैसे कल कि ही तो बात है जब हमारी दोस्ती कि कितने लोग चर्चा करते थे ।

जब मैंने दिल्ली में कदम रखा था तो मैं अनेको के भीड़ में खोई हुईं एक मासूम लड़की जिसे उस समय सब अपना लगता था । वक्त के साथ मैं वहाँ गुल मिल तो जरूर गई थी फिर भी वहाँ से भी भाग जाने का दिल करता था । हर कोई अपना कहता तो जरूर था पर मानता कोई नहीं था । बात तो उन ही दिनों कि हैं जब तुमने मेरा हाथ थामा था , मुझे गले से लगाया था ; वादा किया था उम्र भर यह दोस्ती निभाने की । लेकिन उस समय मुझे कहां यह पता था कि वादें तोड़ने के लिए ही तो किए जाते हैं ।

मेरे ज़हन में हर एक वो याद आज भी ताजी हैं । एक स्कूल में पढ़ते तो थे लेकिन वर्ग अलग था । कैसे हम अपनी नजर घड़ी की सुई पर अटका कर रखा करते थे और इंतजार करते थे घन्टी के बजने का । वो हर क्लास के बाद पाँच मिनट की मुलाकात आज भी स्मरण हैं । कैसे 4 बजे की ट्यूशन के लिए हम 3:30 ही पहुँच जाते थे क्योंकि हमारे पास बातों का ख़जाना जो हुआ करता था। वो हमारा पहला क्रश हमने एक दूसरे को ही तो बताया था । तुम्हारे पहले प्यार पर हमारा जासूस बन रिएलटी चेक करना सब याद हैं मुझे ।

ऐसी शायद कोई बात ही नहीं थी जो हमने एक दूसरे से छिपाई हो । लोग कहा कहते थे यह दो एक ही तो हैं । वक्त के साथ दोस्ती तो बहुत गहरी हुईं और लड़ाई का तो सवाल ही पैदा नहीं होता था । हर दुःख, हर सुख में हमने एक दूसरे को ही ढूँढा था । पर वक्त के साथ सब बदल गया।

ताजुब तो मुझे उस दिन हुआ जब मैंने तुम्हें अपने जीवन की सबसे बड़ी गलती के लिए रोकने आयी थी और तुम ने पलट कर मुझे कहा था, ” तुम होती कौन हो मुझे रोकने वाली? तुम तो मुझसे जलती हो, मेरी खुशी तुमसे बर्दाश्त नहीं होती ।” यकीन नहीं हुआ जिसके लिए कल तक मैं सब कुछ थी अचानक उसके लिए कौन हो गयी । लाखो की भीड़ में खो सी है हमारी दोस्ती।

तुम्हारा हर एक शब्द कांटो कि तरह चुब रहे थे लेकिन फिर भी दिल मान नहीं रहा था । कैसे तुम्हें उस खाई में गिरने देती ? बहुत कोशिश कि थी तुम्हें रोकने की पर न तुम रूकी ; न हमारी दोस्ती बची । एक जटके में हमारी दोस्ती का नामों निशान मिठ गया हमेशा के लिए ।

ऐसा नहीं था कि तुम्हारे बाद मेरी किसी से दोस्ती नहीं हुईं पर तुम्हारी याद आज भी आँखों में आँसू भर देती हैं । चार साल की दोस्ती को टूटे हुए आज सात साल हो गए हैं लेकिन याद उतना ही आती हो। मन में चाह है तो सिर्फ इतनी कि जिन्दगी के सफर में तुम से एक मुलाकात जरूर हो ।

क्या आप कभी समझेंगे ??

Standard

क्या आप कभी समझ पाएंगे मुझ पर क्या बीत रही हैं? क्या आपको कोई एहसास हैं कि मेरे ऊपर क्या गुज़र रही हैं? मेरी हालत उस जल बिन मछली की तरह हो गयी हैं जिसे पानी से निकाल के थल पर रख दिया गया हैं। मैं तड़प रही हूँ। ना आपको भूल सकती हूँ, ना आपको कुछ कह पा रही हूँ। एकतरफा प्यार बोझ अब कठिन होती जा रही हैं।

यकीन मानिए एकतरफा ही सही पर इश्क़ तो हद से ज़्यादा हैं।

मुझे कोई अंदाजा नहीं कि आप मेरे साथ ऐसा क्यों कर रहे हो ? क्या आप मेरी ख़ामोशी नहीं समझ पा रहे? क्या आपको बदनामी का डर सता रहा है ? अगर ऐसा हैं तो मेरे प्यार पर भरोसा रखिए। मेरा प्यार मुक्कमल ना सही, पर कमज़ोर नहीं हैं । कभी भी नहीं ।

अगर उस दिन मैंने पूछा नहीं होता की क्या आपको मैं लेख भेज सकती हूँ, और यदि आपने हामी नहीं भरी होती तो शायद संकोच का वो झीना से पर्दा कभी ना हटा होता। आप वो पहले इंसान होंगे जिनसे मैंने इज़ाज़त मांगी थी। आपकी टिप्पणी जानने की जिज्ञासा थी और उससे भी ज़्यादा मन उत्सुक था आपकी मन की बात जानने के लिये। रात के करीब 11बजे आपने कहा था… “हाँ हाँ। क्यों नहीं। ज़रूर भेजो।”

मुझे भरोसा था कि प्यासे मुसाफ़िर को आज किनारा मिल जाएगा, और आज के बाद कुछ कहने सुनने की गुंजाइश नहीं रह जाएगी। आप एक पल में समझ जाएंगे कि जिस इंसान को मेरा पत्र ( एक चिट्ठी एकतरफ़ा प्यार के नाम ) अग्रेसित था वो कोई और नहीं, आप ही हैं। एक मिनट की प्रतीक्षा जन्मों सी प्रतीत हो रही थी। सुबह को जब आपके संदेश का इशारा हुआ तो मैंने कांपते हाथों के साथ आपका संदेश खोला। आपको मेरा लेख बेहद पसंद आया था, पहली बार मैंने लगभग 9 मिनट तक आपसे बातें की थी, जिसमे आप हर बार मेरी प्रशंसा किये नहीं थक रहे थे। आपको मेरी लेखनी की शैली काफी प्रभावशाली लगी थी। आपके अनुसार मेरा लेख दिल को छूने वाला था। पर क्या वो आपके दिल में अपनी जगह बना सका ये प्रश्न आज भी वही का वही हैं। खुशी तो थी पर अधूरी सी थी। उदासी थी एक और प्रयास के असफल होने की।

खुद को संभालना आसान नहीं होता वो भी तब आप पल पल बिखड़ रहे हो। कई बार सांत्वना दी खुद को, की आप और मैं दो अलग अलग दिशाओं से ताल्लूक रखते हैं। आशा थी कि आप चिट्ठी पढ़ के समझ जाएँगे की आपको प्रेषित हैं और मुझे समझाने के उद्देश्य से ही सही पर आप इस बारे में बात जरूर करेंगे। एक और नाकामयाब कोशिश की थी मैंने। मुझे अपने टूटने का एहसास हैं, जानती हूँ मेरे सवालों के जवाब सिर्फ आप दे सकते हैं, पर आप उनके लिए जवाबदेह नहीं हैं। काश कुछ आपसे कह पाती, फुट फुट के रो पाती, हाल ए दिल बयाँ कर पाती। एकतरफा मोहब्बत की प्रज्वलित अग्नि अक्सर इतनी बलशाली होती हैं कि अगर वो जीवन को नष्ट कर सकती हैं तो जीवन को एक नई गहराई की ओर मोड़ भी सकती हैं।

मेरे द्वारा लिखे गया हर अक्षर आपके लिए अपने इश्क़ को कबूलता हैं और इबादत करता हैं। मेरी हर कहानी का सार हैं आप, मेरी हर कविता का अर्थ हैं आप।

ज़िन्दगी कोई चलचित्र की तरह चलती फिरती बस एक कथा नहीं हैं, जहां अंत मे हम दोनों एक हो जाएँगे । ज़िन्दगी कठिन हैं। यह एक वास्तविकता हैं। मैं आपकी भावनाओं की भी उतनी ही कद्र करती हूँ जितनी ख़ुद के मोहब्बत की। आपका “हाँ ” सर आंखों पर, आपके “ना ” की भी उतनी ही इज़्ज़त हैं।

आप कभी एक दिन के लिए भी शहर छोड़ के चले जाते हैं तो आपको हमेशा के लिए खो देने का डर सताने लगता हैं। पता नहीं आप क्या मतलब निकालते होंगे मेरे उलूल जुलूल प्रश्नों का, पर दिल के हाथों मजबूर आशिक़ और क्या करे

एक रात को जब आपने कहा था कि कुछ दिल को छू देने वाली कहानियां ज़रूर भेजना, कुछ पंक्तिया तो आपके सामने लिख देने का मन हुआ था। एक क्षण के लिए लगा था आप समझ गए थे मैंने अचानक से हिंदी का दामन क्यों थामा हैं, आप जानते हैं हिंदी में बातें बेहतर तरीके से व्यक्त हो सकती हैं।

महीनों से नहीं मिली हूँ, पर यादें ताज़ा हैं। लगता हैं जैसे आपको कल ही तो मिली थी पहली बारअक्सर आपको उसी जैकेट में देखने को दिल व्याकुल होता हैं। मेरे दिन की शुरुआत और अंत आपकी तस्वीर को ही देख के होती हैं।

ख़ैर ! क्या फायदा ? आप ये पत्र भी समझ के अनदेखा कर देंगे, और तकलीफों में एक और घाव जोड़ देंगे। धैर्य आपकी ही देन हैं। आपको पाने की अभिलाषा में खुद को खो दिया। हर गाने में आपकी खुश्बू हैं, हर शाम आपकी राह तकती हैं।

इश्क़ दोनों तरफ से हो ये ज़रूरी तो नहीं, इज़हार-ए-मोहब्बत भी तसल्ली दे देगा।।

अगर ज़रा भी अभास हैं तो अब कह लेने दीजिये।

– निधि

एक चिट्ठी एकतरफ़ा प्यार के नाम

Standard

​ऐसे तो हजारों खत लिखे होंगे हमने, कुछ पन्नो पर, कुछ मन में। शायद ये मेरा आखिरी सन्देश हो। शायद हम हर मर्ज़ को छिपाना सीख गए हैं। मेरी मुलाक़ात कहने को तो ज़िन्दगी के हर मुकाम पर कई अलग तरह के लोगो से हुई हैं, पर आज तक ऐसा संयोग नही बना की किसी ऐसे से मिलूं जिसके बारे में हर पल सोच सकूँ। फिर एक दिन आपका आना हुआ। एक सुखद एहसास थे आप। प्रथम द्रष्ट्या तो ये पहली नज़र का प्यार लगा।। फ़िर धीरे धीरे, हर चीज़ अच्छी लगने लगी।। आपका स्वभाव, आपकी मुस्कान, आपका मुश्किलों से लड़ने का तरीका, हिम्मत नहीं हारने का जज़्बा, हर चीज़ आकर्षित करती थी। शायद मैं कभी शब्दों में बयां न कर सकूं इतने पसंद हैं आप। एक समय ऐसा आया कि आपको देखें बिना दिन गुज़ारना मुश्किल था। आपकी परछाई तक पहचानती हूँ   मैं। आप अंजान हैं मेरी मोहब्बत से, या अनदेखा कर रहे हैं, मुझे नहीं पता। पर इश्क़ तो हैं, जो मुकम्मल नहीं होता।

आज भी याद है जब मैंने पहली बार हिमाकत की थी आपसे बात करने की, पर दिल के हाथों मजबूर ज़ुबां  कभी ज़्यादा कुछ बयाँ ना कर सकी। होठों से ज़्यादा आंखों से जज़्बातो की कहानी सुनाते सुनाते कब खुद अपनी कहानी बुन बैठी पता ही नही चला। छोटी छोटी बातों का सिलसिला यूँ ही लंबा हो गया। मुझे आज भी वो शाम याद हैं जब मैंने आपको पहली बार मैसेज भेजा था। उस दिन से छोटी – छोटी बातों का सिलसिला जारी रहा । 2016 की दिसम्बर की शाम की यादें आज भी ताजी हैं । आपका मेरा हाल पूछना ही मुझे संतुष्टि दे गया। बातों ही बातों में, मैं अधिक ही उत्तेजित हो कर आपकी तारीफ करते करते न थक रहीं थी। भावनाओं में बह कर मैंने आपसे यह भी कह डाला था कि मैं आपकी कितनी तारीफ अपने घर वालों से भी करतीं हूँ ।मुझे पता हैं आप यह सब भूल चुके होंगे पर मैं कैसे भूल जाऊँ?  

कुछ अधिक ही प्यार हो गया अपने नाम से मुझे, जब आपने मेरा नाम लिया। कई बार मेरी मुस्कुराहट की एकमात्र वजह आप होते हैं। पता है अच्छा लगता है आपको जब मैं एकटक निहारती हूँ आपको। ज्ञात हैं मुझे कि आपको बहुत बार एहसास हुआ कि मैं आपको चुपके से देखती हूँ । बेशक अंदाज़ा हैं आपको मेरी मोहब्बत का, नहीं तो क्यों बेवजह आप वहीं जैकेट पहन के जानबूझ कर मेरे सामने इतराने आते जिसकी मैंने एक रात पहले तारीफ़ की थी । जन्मदिन आपका था और आपसे ज़्यादा उत्साहित थी मैं। पता  नहीं कितने ही शब्दों को सोचा था और एक दिन पहले ही एक अच्छा सा संदेश आपके लिए लिख डाला था। कौतूहलवश रात को नींद नहीं आयी थी की कहीं आपको पसन्द नही आई तो। दुख बस इस बात का ही कि इतनी कोशिशों के बाद भी ये इश्क़ एकतरफा है । 

आपसे एक बात कहूँ , मैं कभी भी अपना जन्मदिन फेसबुक पर दिखाना नहीं चाहती। पर इस साल मैंने जानबूझकर उसे सार्वजनिक रखा। मेरे दिल में उम्मीद थी कि आप मुझे कम से कम जन्मदिन की बधाई जरूर देंगे । पर वो कहते हैं ना अपेक्षा आपको निराशा ही भेंट देती है। आपकी हर तस्वीर मैं फेसबुक पर सिर्फ उस वक़्त पसन्द करती हूँ जब आपके नाम के आगे एक हरी बिंदु सी नज़र आती हैं। याद हैं एक बार पूछा था मैंने आपसे कि क्या आप ट्विटर इस्तेमाल करते हैं। 2 वर्षीय बच्चे की तरह खिलखिला उठी थी मैं जब आपने मुझे बताया कि आप इंस्टाग्राम इस्तेमाल करते हैं और मैंने हस के जवाब दिया था कि मुझे यह पहले से पता है। जी चाहता हैं कुछ बोलूं, पर डर लगता हैं। आपसे सम्बंधित दर्जनों यादें मेरे ज़ेहन में कैद है पर दु:ख कि बात यह है कि यह सब कुछ एक तरफा हैं । 

मैंने अपने दिल के जज़्बात बहुत लोगों को सुनाया था पर अब मैंने यह भी करना बंद कर दिया । जानना चाहते हो क्यूँ?  क्योंकि अब मैं थक चुकी थी यह सुनते  सुनते कि मैं खुद को तकलीफ पहुँचा रही हूँ । मैं मानती हूँ सब सच बोल रहे हैं। पर काश दिल भी दिमाग की तरह समझदार होता । मेरे जीवन में बहुत खास लोग हैं जिनके लिए मैंने कुछ न कुछ जरूर लिखा है । पर आप पहले इंसान हैं जिसके लिए मैंने 100 लेख लिख डाले । पता हैं सबसे बुरी बात क्या हैं?  मुझे पता  ही नहीं कि आपने आज तक एक भी लेख पढ़ा भी है या नहीं । खैर तब भी मैं संतुष्ट हूँ क्योंकि इनको लिख कर मैं अपने एक तरफा प्यार को सारी उमर संजो कर रख सकती हूँ । 

मुझे पता है जब सही समय आएगा और मैं आपके आगे अपने प्यार को कबूल कर पाऊंगी तब तक आप मेरी  जिन्दगी से काफी आगे जा चुके होंगे । पर आज मैं बहुत मजबूर हूँ । आपकी “हाँ” या “नहीं” पर यह बात खत्म नहीं होगी । मेरा आपके लिए जो प्यार हैं उसको आपके सामने आज बोलना बहुत चीजों को तहस नहस कर देगा।

आप बहुत ही उम्दा इंसान हैं । मुझे आपकी हर एक अदा से मोहब्बत हो गयी। आपकी सादगी से लेकर आपके शांत स्वभाव से। आपके बात करने के ढंग से, आपका कुछ परिस्थितियों पर प्रतिक्रिया देने के अंदाज से ; मुझे सब कुछ से प्यार हो गया । मुझमें धीरज की बहुत ही कमी है, और आपका धैर्य देखकर मैं अकस्मात ही आकर्षित हो गई।मैं जानती हूँ आप मेरे जीवन साथी नहीं होंगे इस जन्म में;पर मैं दिल से चाहती हूँ कि मेरा जीवन साथी बिलकुल आपकी तरह ही हो। 

एक आखिरी बात आपको कहना चाहती हूँ कि इस चिट्ठी को पढ़ कर आपको पता लग जाएगा कि आप कौन हैं । मुझे दिल से खुशी होगी कि आप मुझसे खुद बात करें कि आप जान गए हैं कि मेरी भावनाएँ आपके लिए हैं । मेरे दिल में और भी बहुत बातें हैं जो मैं सिर्फ आपको कहना चाहती हूँ । मुझे पता है आप मेरे प्यार को नहीं स्वीकार करेंगे पर कम से कम मुझे अपने दिल की सारी बातें आपसे कह तो लेने दीजिए ।।


– निधि

​THE LAST LETTER TO CRUSH 

Standard

Dear Crush,

You know this is the last crush diary I am writing for you. Why?  

am tired of expressing my feelings. It hurts me every day. I met many people in my life but did not find anyone so good that my whole mind and heart is covered with that particular person thought. The first day I saw you I just liked you by your looks. With the passing of days your nature, the way you spoke, the way you smile and the way you handled certain situations with patience made me fall for you. The day I realized that I just do not like you, I am madly in love with you. With each day my love for you kept growing. There came a time when without seeing you one day I would feel restless. Even I would see your shadow I would have thousand volt smiles on my face. 

I still remember the first time I messaged you on Facebook and from that day we used to talk randomly. But I never had the courage to speak more than Hello, Good evening or Good Morning. On 23rd December 2016 when I messaged and you asked me, “How are you?” This small message from you just gave me bit courage to talk more to you. It was the first day when I appreciated you a lot on your face. In the flow, I even told you that how much I appreciate you in front of my parents too. I know you recognize me well from the face but from the name you knew me only after that day. I could not stop blushing when next day we met and you said you have a nice name. Trust me, since that day I have started loving my name more. I know you would have forgotten all this but how can I forget? 

I know even you notice me smiling at you. I know you have caught me several times staring at you. I never knew I would fall so much for you that I would feel restless when I did not get a chance to see you or talk to you. You made me sure of the fact that you know that I love you. If you do not know why did you smile whenever you would notice me? The memories of January 2017 are still fresh in my mind. I complimented you for one of your jacket and next day you came wearing that jacket. I know you came in front of me deliberately to show me the jacket. How can you expect me to be normal? Anyone could read my face and know I was blushing. I know even you noticed it. 

You know on your birthday I was awakened whole night from 12 AM. The birthday wishes I sent you, was written by me a day before only. I wanted to wish you when you were online and you came online in the morning. You know I never keep my birthday public on Facebook. But this year I kept it open because I had a little hope that you might wish me. But it is rightly said, “Expectations leads to Disappointment.” 

Do you remember I once asked you if you use twitter? And you replied saying that you use Instagram.Like a 2-year-old girl, I got excited to tell you that I already know this and follow you there.  I usually like your pictures on Facebook when you are online. I want that you don’t miss that notification. I wish to speak everything but feel scared.I have dozens of memories attached to you but the sad part is it is all one-sided. 

I have actually poured out my heart in front of many people but now I even stopped doing that. The reason behind everyone would say me the same thing that you are hurting yourself. He does not even know. They are actually right. I wish if the heart was also as smart as the brain. 

There are many special people in my life. I would have written dozens of posts for them but you are the first person for whom I kept on writing and wrote hundreds of crush diaries. The worst part is that I know you would not have read even a single one. But still, I am fine. I am actually satisfied because by posting these I can cherish my one-sided love forever. 

I know until the right time comes and I will be in a state to tell you my feelings you will be gone far from my life. But at present even I am helpless. It’s not about getting a ‘Yes’ or ‘No’. My confession to you at present would destroy many things. You are an amazing person I have ever known. I fell in love with everything in you; from your simplicity to your calm nature. In the way, you talk to the way you react to certain situations. I know I won’t get married to you in this birth but I hope the person I get married to be the photocopy of you.

The last thing I would say that after reading this letter you will actually know who you are. I would love if you message me with a confirmation. I have much more things in the heart to say that I want to say only to you. I know you may not love me back but let me at least pour out my heart completely. 

I love you… ❤

– Nidhi

MY ALL TIME SAVIOR

Standard

​Grandparents are always the first and true best friends of their grandchildren. No doubt the bond they share is lovely. Grandparents are always the first savior for us whenever we do some mistakes. I still remember how my grandfather saved me from getting scolded by my parents. I used to visit my grandparents twice a year with my parents. As soon as I would reach Darbhanga they would treat me as if I am some big celebrity. Among all the grand children; they loved me more because I was the first one who called them’ “Dada Ji” and “Dadi Maa.”


I could spend only a few days with my grandfather because only in holidays I would visit them and he left us all in 2008. I could only get the love of my grandfather for 12 years.


I feel lucky enough because I have my grandmother by my side. From 2013 I am living with her. After coming permanently to Darbhanga I realized what all I was missing for all these years. Whenever I have to watch some T.V show and my father is watching something else. My grandmother acts like a magician and takes the blame on herself that she wants to watch it. I remember once she got caught too because everyone knew that watching Roadies is not my granny cup of tea. But for me, she keeps on lying.

 I still share my room with her. At night both of us have dozens of stories to tell each other. I know she misses grandfather so despite I feel sleepy at times I do listen what she says. At times she is an ATM to me. When my pocket money finishes before the month she secretly gives me money.
In this busy schedule, we do not have time even for our parents someday. But I strongly feel we should always be connected to our grandparents. Rather than using social media in evening we can sit with our grandparents for a while. Only 10 minutes and see the happiness on their face. If you live in some other city, try calling them once a week. You might not miss them but they surely miss you every minute of their life..

https://youtu.be/gSgbmaFKWIU

I am a lazy girl who does not like doing even single household chores. This makes my grandmother worried. At times, she shares this with me too and I ignore it. On this Grandparents day, I will take a pledge to learn few household chores. For tomorrow, I will prepare the whole of lunch to bring that thousands volt smile on her face. I am sure by this gesture of mine I would be able to express my love for her and tell her how much she holds importance in my life… ❤ I am sure she will love my style of #LoveJatao ..

I look forward to hear from you how would you celebrate Grandparents Day. Do share a selfie with your grandparents on Sept. 10, 2017 on Twitter or Facebook with #LoveJatao & tag @blogadda to win a goodie from Parachute Advansed.