A TRIBUTE TO RISHI KAPOOR

Standard

When you grow up watching certain personalities, they leave a great impact on your mind. Rishi Kapoor Sir; I have grown up watching your movies on television. From the time, I have gained senses; I had just two channels to watch on my television. All thanks to my television addiction that my parents had to cut cable connection and I had to switch between the two channels only. I used to eagerly wait for Sunday’s afternoon so that I could watch that three hours long movies. All my childhood, I have watched all the old movies that were the blockbusters of those times.
My father always says, “पिक्चर तो हमारे ज़माने में बनते थे!” I was a small kid at that time that was too small to understand the depth of the lines. With the passing of time, as I grew up; re-watched those movies, the storylines, the songs all started making sense out of sudden. I would be in a state of awe for hours. All those movies surely leave a footprint on the mind forever.

Many people in my family admired you a lot and years later, I know and found the reason why. As joyful, you were on screen, you were in real life too. Your movies had the same charm as you had on your face. Your movies were so lively and that’s the reason, even the present generation admires you so much. Do Dhooni Chaar, Karz, Kapoor and Sons, Deewana, Yeh Vaada Raha, Agnipath; every movie has its magic.

Most of my mornings begin with,

” सोचता हूं अगर मैं दुआ मांगता,
हाथ अपने उठा कर मैं क्या मांगता,
जब से तुझसे मोहब्बत मैं करने लगा,
तब से जैसे इबादत मैं करने लगा।”

And my nights end with,

“मेरी किस्मत में तू नहीं शायद,
क्यूं तेरा इंतजार करता हूं?
मैं तुझे कल भी प्यार करता था,
मैं तुझे अब भी प्यार करता हूं।”

Not only these but also,”सोचेंगे तुम्हें प्यार करें कि नहीं, यह दिल बेकरार करें कि नहीं!” and ” पहले तो मैं शायर था, आशिक़ बनाया आपने! “,are in my top list.

Born in the 20th century, modern era society, in the generation where love is no more a strong emotion, where love isn’t any more a symbol of purity, I am the girl who believes in old school love. The love for which people sacrifices their life, the love that stays alive in the heart forever, even after separation. And for all your romantic movies, take a bow, sir. The romance you shared on the screen will always be alive in my heart. You will always stay alive in our hearts and our memories. The industry, the world lost another star today. Rest In Peace Sir.

A TRIBUTE TO IRRFAN KHAN

Standard

I can write thousands of words for someone special, but at times when emotions are too high; when I actually have to write real emotions, I fall shorts of words. Today is one such day. Irrfan Khan Sir, it was just too early. I hoped this to be a piece of fake news but Alas! This was just the harsh truth of today. The world lost someone, in front of whom all the adjectives would fail to appreciate him. You were a gem.

We admire actors because of their acting skills, we admire them for the way they carry themselves in front of the camera. We know that part of their life that they let us know. But the only reason that so many people love you or I must say that people are so broken by your death because you were the same person always whether you’re on camera or without a camera. You were always the same. You have proved that not everyone needs someone from Bollywood in family, to begin their career. You have proved that not everyone needs that dashing entry look to begin their career. You proved that not everyone needs support to rise high and shine. You have proved that your hard work, determination, is solely responsible for your success and you have surely made an impact on the present generation. I feel no one would forget those amazing dialogues you have delivered in your movies. Some of your dialogues have just made a permanent place in my heart and mind.

* चांद पर बाद में जाना ज़माने वालों, पहले धरती पर तो रहना सीख लो!

* आदमी का सपना टूट जाता है ना, आदमी ख़त्म हो जाता है!

* यह शहर हमें जितना देता है, बदले में कई ज़्यादा हमसे ले लेता है !

* दिल-ए-नादान, तुझे हुआ क्या है? आखिर इस दर्द की दवा क्या है?

* नींद ना माशूका की तरह होती है, वक़्त ना दो तो बुरा मान कर चली जाती है !

All these relatable dialogues from your blockbuster movies are echoing in ears in your voice. The feeling cannot be expressed.

As Irrfan Khan said in one of his interviews, “I try to do films which leave a longer impact, which speak to you and which keep coming back to you after you’ve seen them.”

I would rather say, Sir not only as an actor but as a person too, he has left the same impact on society. Today, I could feel all the people mourning. Everyone has the same feeling that someone from their own family has left the world. I wish you could be back; I wish we could still watch you on screen. I wish we could admire more of Irrfan Sir on screen. I wish you could still win this battle like you won the battle of neuroendocrine tumors. I wish you would have not left so early.

तुम्हें पर्दे पर जितना देखा, जितना
सुना;
तुम्हें और देखने सुनने की चाह बढ़ गई,
अभी तो तुमने ज़माने को और किस्से सुनाने थे,
और तुम लाखों दिलों को यूं तोड़ गए!

Your death has proved it again that Life is brutally cruel. Rest in Peace Sir.

JUST A HOUSEWIFE

Standard

BLURB :

Barkha is a successful working woman. She is rich, beautiful and ambitious. But love eludes her. Anjali is an intelligent, fearless and ambitious woman with a loving husband and two kids. Outwardly, her little family looks perfect but if you peer closely, her home is falling apart. Aradhya is a submissive and dutiful wife who fears living after the death of her husband. But then, she has to protect her two little daughters from a harsh world. What is it that these three women are looking for? Are they looking for love in their life or calm in the love, which they already have? Just a housewife explores the journey of three women in search of their identity, in a society constantly questioning their every move in a world that is ruthless.

ABOUT THE AUTHOR :

RAKESH VARMA is an IAS officer. He is an alumnus of Lucknow University, and has a B.Sc., M.A. (Anthropology), MBA and Doctorate in Sociology. He also has a Master’s in Public Policy from LKY School of Public Policy, National University of Singapore. He is a government of India-recognized Leadership Expert and Trainer and recipient of the National Award for Excellence in Training. He has been a guest faculty at various training institutes.

MY REVIEW :

” Just A Housewife” by Rakesh Verma is a must read book specially for the people who surely need to change their old mentalty and accept the modern society. The title of the book is apt and the cover of the book is quite simple yet justified. The blurb of the novel is so interesting. What I personally loved is how the author managed to make the blurb itself so intriguing in limited words. The book holds the story of 3 women ; Barkha, Aradhya and Anjali as well as three men Aneesh, Akhil and Arun. This book narrates a simple yet gripping story. There is a whole emotional ride within you while you turn the pages of the novel. The three characters of the novel are in search of their real identity in this world. The three woman, entirely different lifestyle but the feeling within all three is somewhere same. The three of them have their own inspirational journey. Overall, I loved reading this book as it holds so much positivity. Being a huge fan of romantic genre, I will recommend this book to everyone out here as this book defines love in its own way. Lastly, I would love if this book turns into onscreen series as that will surely have a greater impact on the society.

Rating : 5/5

ORDER THE BOOK FROM : https://www.amazon.in/JUST-HOUSEWIFE-Rakesh-Varma/dp/9353337143/ref=mp_s_a_1_2?keywords=just+a+housewife&qid=1578378950&sprefix=just+a+h&sr=8-2

A STORY BETWEEN THE LINES

Standard

BLURB :

Adi, a soft rebel with a strong mind, challenged the world with his smile. Nila, an innocent girl with a beautiful heart, loved the world with all she had. Love sparkled at the mountains, when Adi’s adrenaline lost to Nila’s serenity. Life struck them hard even before it started. Adi woke up in a hospital, all alone, remembering nothing from his recent past.With memories betraying him, he trusts his love to lead him to Nila. Running against time, he felt truth closing in from all directions. The more the answers he got, the further his destination became. Adi dared the distance which was a war-torn land, engraved with scars. Can Adi’s journey lead to his destination? Or was the journey a destination by itself?

MY REVIEW :

“A story between the lines”, by Santosh shivaraj is a book that will teach you what all life does to us. The cover of the book is simple, sober yet beautiful. The blurb itself is so intriguing that one will feel much excited to turn the pages soon.The book holds the story of Adi who looses his memory but has a slight memories of his wife, Nila. Adi leads a struggleful life with lots of pain. He is in search of his love. Adi search for Nila is something that made me believe in passionate love.
There are other characters in the book like Salim, Dr. Ali who teaches us lesson of life through their characters.
The escape programme specially is something different that the author has written and I am sure this would have a great imapct on reader’s mind. Towards the end, one will surely feel that this book is a story between the lines like the title of the book say.The book is written in simple language and the author has well portrayed each character. The writing style of the author is amazing and I personally liked the narration skill of the author. Another aspect that makes the book amazing is each line speak emotions. Apart from everything, any lesson that the book teaches , the best part is the book teaches the lesson of humanity. Overall, a wonderful loveable read.

RATING : 5/5

ORDER THE BOOK FROM : https://www.amazon.in/Story-Between-Lines-Santhosh-Sivaraj/dp/B07SHF1Y7T/ref=mp_s_a_1_2?keywords=a+story+between+the+lines&qid=1574215215&sprefix=a+story+bet&sr=8-2

वो एक लड़का ….!

Standard

” अरे , लड़के रोते नहीं ! ”
” गुड़िया से खेलोगे लड़का हो कर ! ”
” मर्द को दर्द नहीं होता ! ”
” लड़के कभी झुकते नहीं! ”
” लड़के और घर का काम, कभी नहीं! ”

ऊपर लिखी सारी बातों ने हमारे समाज को बर्बाद कर रखा है , और लोग कहते है कि आज के बच्चों में संस्कार नहीं है , क्यूंकि आज कल के 80% बच्चे ऊपर लिखे बातों को नहीं मानते।

अगर ऊपर लिखी बातें संस्कार तय करते है तो पूरे सम्मान के साथ, मुझे यह कहने में बिल्कुल हिचक नहीं होगी कि आपकी सोच गंदी है ,आप अपने दिमाग को थोड़ा सर्फ एक्सेल ( SURF EXCEL) मिलाए ताकि अंदर की गन्दगी साफ़ हो।

लड़का हो या लड़की, भगवान ने सबको एक बराबर बनाया है। दो आंखें, 1 नाक, 1 मुंह, दो कान, दो हाथ और दो पैर , एक समान सब को दिया है तो यह भेद भाव क्यूं ?

लड़के क्यूं नहीं रो सकते? अगर उन्हें तकलीफ़ होती है तो क्या उनका इतना भी हक नहीं की वो भी रो कर अपना दिल हल्का कर ले। किसी के छोड़ जाने का, किसी के मरने का, दिल के टूटने का लड़के को भी बराबर दर्द होता है तो उन्हें रोने का अधिकार क्यों नहीं है ?

गुड़िया लड़की के खेलने की चीज़ है , यह बचपन में तय कर देते है और फिर इस ही मानसिकता के साथ बच्चा बड़ा होता है। कम से कम खेलने वाले वस्तु में तो अंतर नहीं रखो।

और जो लोग कहते है मर्द को दर्द नहीं होता, वो खुद को खींच खींच कर 10 थप्पड़ जड़ दे और देखे दर्द क्या होता है। चाकू ले कर अपनी एक उंगली काट के देखे और फिर बताएं की दर्द नहीं होता है।

बाकी आखिरी दोनों मुद्दों पर तो घंटो तक बहस छिड़ जाएं। जब एक लड़की अपना घर, अपने माता – पिता को छोड़ कर , अपने सपनों को कुचल कर आती है अपने पति के घर और उनकी सारी बातें मानती है तो क्या हुआ अगर उसका पति भी कुछ बातें उसकी मान ले तो। ऐसे मर्दों को तुरंत यह समाज “जोरू का गुलाम” घोषित कर देता है , जो अत्यंत दुखदाई है।

जब किसी की बेटी नौकरी कर सकती है तो उसका बेटा खाना क्यूं नहीं बना सकता। क्या फ़र्क पड़ता है कि खाना किसने बनाया है? तय करने वाला कौन है की खाना लड़की ही बनाएगी और लड़का पैसा ही कमाएगा।

आज मैंने यह इसलिए लिखा क्यूंकि, एक लड़के के ऊपर बहुत जिम्मेदारियों का बोझ होता है, और वो पूरे करते करते उसकी उम्र निकल जाती है और वो खुद के लिए नहीं जी पाता। पैदा होते ही सब से पहले उसके सर चिपका दिया जाता है, ” घर का नाम यहीं रौशन करेगा ! ”

जैसे जैसे वो लड़का बड़ा होता है यह एक वाक्य उसको अन्दर अंदर खाता है। जब वो बहुत मुश्किलों से लड़ता है पर नौकरी पाने में असफल हो जाता है। वो अंदर कितना तकलीफ़ में हर एक पल गुजारता है उसका आभास तक कोई नहीं करता बस तुरंत पूरा परिवार, समाज उसको नालायक घोषित कर देता है। एक लड़का नौकरी पाने के लिए अपने परिवार से दूर, किसी शहर के एक कमरे में काट रहा होता है अपना एक दिन । मां के होते हुए भी कोई उसके पास नहीं होता जो सर पर हाथ फेर कर पूछे की मेरे बेटे ने खाना खाया। मां परेशान ना हो इस खातिर जब वो बेटा बीमार होता है तो भी नहीं बताता दूर बैठे अपने मां – पिता को जो परेशान हो जाएंगे। वो एक लड़का क्या बनना चाहता है यह कोई पूछता तक नहीं, और थोप देता है अपने मन की ख्वाहिश जिसे पूरा करना उसके लिए एक जंग के बराबर हो जाती है। एक लड़का जब अपनी पहली कमाई पाता है तब ही सोच लेता है कि वो इन पैसों से किसके लिए क्या उपहार लेगा। भले उसकी तनख़्वाह उसकी सपनों से कम है, पर उसकी यह सोच सब का दिल को खुश करने वाला सर्वोपरि है।

वो एक लड़के का जब कोई दिल तोड़ देता है तो किसी को कुछ नहीं कह नहीं पाता क्योंकि उसके ऊपर जिम्मेदारी होती है जिसे उसे पूरा करना होता है और उस खातिर वो खुद को मार डालता है , अपनी भावनाओं को एक कोने में। वो एक लड़का जब अपनी बहन को देखता है एक लड़के के लिए रोते हुए, तो दिल ही दिल प्रण लेता है वो कभी किसी लड़की का दिल नहीं तोड़ेगा। उसे आभास रहता है कि कितनी तकलीफ़ होती है एक इंसान को जिसको छोड़ कर लोग चले जाते है बीच सफर में।

वो एक लड़का जब अपनी मां और बीवी के बीच में फंसा होता है, जो जानता है कि अगर थोड़ा थोड़ा दोनों खुद को बदल लेंगी तो घर में शांति ही होगी पर कुछ नहीं बोल पाता क्यूंकि अगर उसको कभी 1 को चुनने को बोला जाएगा तो वो उसके लिए मौत के बराबर होता है।

वो एक लड़का जब पिता बनता है तो ज़िम्मेदारियों का बोझ इतना बढ़ जाता है कि कंधे झुक जाते है पर हौसलें बुलंद रहते है। कैसे वो अपने बच्चों की हर एक ख्वाहिश पूरी करने के लिए , बेसब्र रहता है और बचाता फिरता है अपने बच्चों को पूरी दुनिया की बुरी नज़र से।

वो एक लड़का बहुत कुछ सहता है। पर समाज कब समझेगा की एक लड़का, एक बेटा, एक भाई, एक प्रेमी , एक जीवन साथी बनने से पहले वो एक इंसान है, जिसके अंदर भी भगवान ने दिल दिया है, भावनाओं से भरा हुआ , जिसकी कद्र करना चाहिए। उसकी ख्वाहिशें, उसकी तकलीफ़ को कब समझेगा समाज ! वो एक लड़का बहुत कुछ से गुजरता है … उसे भी रोने का, चिल्लाने का, नखरे दिखाने का अधिकार है। वो एक लड़का , हां वो एक लड़का , पहले एक इंसान है।

Happy International Men’s Day ❤

– Nidhi ❤ (19-11-2019)

काश ! तुम लौट आती ….

Standard

This is a long story written from two point of view. Read till end. 💜

फोन की घंटी बज रही थी । एक बार, दो बार , तीन बार । किसी ने उठाया ही नहीं । अभय अपनी दुनिया में मस्त, अपने बजते फोन को देख रहा था लेकिन उठा नहीं रहा था।
लाइट जल जल कर बंद हो जा रही थी उसकी आंखों के सामने लेकिन वो फोन उठाना ही नहीं चाहता था। उसे दिख रहा था कि फोन श्रुति कर रही थी। हां, वहीं श्रुति, जिसका दिल रखने के लिए, अभय ने उससे दोस्ती कर ली थी। हां, वहीं श्रुति जो अभय के प्यार में पागल हो चुकी थी। हां वहीं श्रुति जो पूरी दुनिया के सामने शांत, पर अभय के सामने चुप होने का नाम नहीं लेती थी। खैर, और एक बार फोन बज कर कट गया।
” गुस्सा हो? ”
” अरे क्या हुआ बोलो ! ”
” arrrghhh”
” अरे प्लीज़ कुछ तो बोलो ! ”
” देखो यह ना बहुत गलत बात है तुम मेरे मेसेज का जवाब नहीं देते ! ”
और ऐसे ही ना जाने कितने अनगिनत मेसेज भी भेज दिए थे श्रुति ने जो अभय जान मुच कर नहीं खोलता था ।
और ना ही जवाब दिया करता था। पागल श्रुति , दिन भर फोन हाथ में थामे उसका इंतज़ार करती थी। खैर, ना श्रुति की इंतज़ार करने की आदत गई और ना ही अभय कभी समझ पाया कि कितनी ज़्यादा चाहत है श्रुति के प्यार में।

वक़्त यूं ही बीतता गया श्रुति कोई कसर नहीं छोड़ पाती थी अपने प्यार का एहसास कराने का। उसने अपने मन में तो कई सपने बुन रखे थे, लेकिन अभय के सामने कहने में बहुत हिचकिचाती थी। तोड़ तोड़ कर श्रुति ने अपने कुछ ख़्वाब अभय को बता दिया था । पूरे तो नहीं होंगे यह दिल जानता था, फिर भी एक उम्मीद थी । वक़्त बीतता गया था पर कुछ भी नहीं बदला। ना श्रुति का प्यार कम हुआ और ना ही अभय का प्यार जागा।

बाकी सब भले ही बहुत अवगुण हो श्रुति में, पर सब से बुरी आदत थी उसकी की भावुक बहुत जल्दी हो जाती थी । आंसू आंखों के कोने में ही टीका रहता था। बातें जल्दी बुरी लग जाती थी और कोई तेज़ आवाज़ में बात कर ले तो मानो समुन्द्र बहना तय था।

इस बार फिर वहीं हुआ, श्रुति ने अभय को फोन लगाया, अभय झल्ला उठा। बहुत तेज़ का चिल्लाया। ऐसा की श्रुति खामोश हो गई। कुछ बोल ही नहीं पाई। चुप चाप फोन काट दिया क्यूंकि उसका अभय जो दुनिया से प्यार से बात करता है, कैसे ऐसे बात कर सकता है। आखिर इस ही प्यार से बात करने की वजह से तो अपना दिल हारी थी वो। शांत सी स्थिर हो गई श्रुति। बिना कुछ कहे अभय के दफ्तर गई। अभय का एक सामान बहुत दिन से श्रुति के पास था । उसको चुप चाप वो सामान थमा कर लौट गई। अभय वो सब सामान ले कर घर आया। घर पहुंच कर अपने बैग से वो सामान निकाला। उस में से अलग अलग सामन निकले। एक डायरी थी जिस में श्रुति ने मन खोल कर लिखा था कि अभय क्या मायने रखते है उसके जीवन में। अपने बारे में खुद इतना पढ़ कर अभय विचलित हो रहा था। एक कैसेट थी जिस में अभय और श्रुति के पसंदीदा गानों की रिकॉर्डिंग थी , अभय की बहुत तस्वीरें जो उसे अवॉर्ड मिले थे उसकी कामयाबी के लिए, और एक तस्वीर थी अभय और श्रुति की साथ जो एक फंक्शन में उन्होंने साथ खींचवाई थी। डायरी के अंत तक आते आते अभय की आंखे भर आई थी। ” सुनो, अपना ध्यान रखा करो, इतने व्यस्त नहीं हुआ करो की अपनी सेहत का ध्यान नहीं रख पाओ। तुम पर काला रंग बहुत जजता है, और सुनो अब मैं कभी तुम्हें तंग नहीं करूंगी, इतने परेशान नहीं हो। ”

आखिरी पन्ने पर श्रुति ने बहुत सुंदर अक्षर में लिखा था, ” तुम्हें जीवन में सच्चा प्यार नसीब हो, बहुत खुशियां मिले, और हां अगर अगले जन्म में फिर मुलाक़ात हुई तो मैं भी बिल्कुल तुम्हारी तरह प्रैक्टिकल बन कर आयूंगी । एकदम नए ज़माने वाली। ”

श्रुति ने उस शाम पूरी तरह तय कर लिया था कि कितना भी मुश्किल हो पर कैसे भी अभय के बिना ही जीना होगा। एक सेकंड भी काटने को दौड़ता था पर काटना होगा। अभय श्रुति रोज़ तो मिलते थे। दोनों एक ही दफ़्तर में काम करते थे। लेकिन दोनों ने कभी बात नहीं की उस बीच।

एक दिन श्रुति दफ़्तर आ ही रही थी कि सामने से गुजरती एक तेज़ रफ़्तार बस ने ऐसी ठोकर मारी की श्रुति हमेशा के लिए खामोश हो गई। श्रुति की मौत की खबर अभय को कुछ दो दिन बाद मिली।आज अभय पहली बार श्रुति को ले कर भावुक हो रहा था। आज अभय को श्रुति बहुत याद आई।

बच्चों की तरह उस डायरी को पकड़ कर दफ्तर में एक कोने में बैठ कर रो रहा था। आज श्रुति का दिया सब समेट कर रखने का जी चाह रहा था, अभी श्रुति लौट आए तो जी भर गले लगाने का मन हो रहा था पर अफ़सोस अभय जब तक श्रुति का प्यार समझता बहुत देरी हो गई।

बहुत परेशान था श्रुति के बोलने से, पर अब श्रुति कभी अभय को तंग नहीं कर सकती थी….. !

कभी कभी किसी इंसान को ज़्यादा नज़र अंदाज़ करते करते , एक दिन वो इंसान यकीनन बहुत दूर हो जाता है और फिर कितना चाहो वो लौट के नहीं आ पाता .. !

—————————————————————–

श्रुति,

आज तक मैंने तुम्हें कभी कुछ नहीं कहा, ना कभी समझा पाया। तुम्हारे जाने का बहुत दुख है, अंदर से आत्मा में तकलीफ होती है कि तुम चली गई हो। तुम्हारे जाने के 15 दिन बाद पता चला कि तुम्हारी मौत एक हादसा ही था और तुमने आत्म हत्या नहीं की थी। तब जा कर मन संतुष्ट हुआ था। एक भारीपन कम हुआ मन से।

देखो वक़्त हर एक घाव भर देता है, तुम भी मेरे बिना जीने लगती। मेरी भी कुछ मजबूरियां थी कि मैं तुम्हें अपना नहीं सकता था। तुम ही बताओ क्या यह तुम्हारे साथ इंसाफी होता कि तुम्हें प्यार का झूठा सपने दिखा कर बाद में तुम्हें छोड़ देता। तब कैसे बिताती यह ज़िन्दगी तुम ? तब और कितनी मुश्किल होती। पर यह सब बोला नहीं गया कभी।

मैं समझता सब था लेकिन क्या बोलता यहीं बस खुद को समझ नहीं आया कभी। तुम्हारे मन में अपने प्रति भावनाएं पढ़ कर बहुत विचलित हुआ था मन की कैसे मुझे बिल्कुल ना जानते हुए तुम मुझे इतना ज़्यादा जान गई। कैसे तुम मुझसे इतना प्यार करने लगी। क्यूं तुम्हें मैं इतना पसंद आने लगा। मैंने कई बार तुमसे जान मुच कर भी मुंह फेरा ताकि तुम समझ जाओ और खुद चली जाओ पर तुम बहुत ज़िद्दी , एक टक टिकी रही। हां गलती मेरी बस यह है कि तुम्हे कभी खुल कर बोलने का मौका ही नहीं दिया। समझने की कोशिश ही नहीं की।

तुम्हारे जाने के बाद तुम्हारी एक दोस्त से मिला। उसने और एक डायरी थमा दी। इस बार दिल में डर था उसको खोलने से पहले फिर भी हिम्मत कर के खोली। उस डायरी से जाना मैंने असली श्रुति को। कितना बचपना था तुम में, तुम्हारी ख्वाहिशें कितनी बड़ी थी तुम दुनिया के लिए जीना चाहती थी। दूसरों की खुशियां ही तुम्हें खुशी दे जाती थी। तुम्हारे ना ख़त्म होने वाले ख़्वाब पढ़ते पढ़ते चेहरे पर हंसी, आंखों में नमी सब कायम थी।
खैर, वक़्त का खेल था कुछ बदल नहीं पाया। तुम भी चली गई, मैं अभी भी वैसा हूं, तुम्हारे प्यार के लिए मेरे दिल में इज्ज़त हमेशा से थी पर अब हाल कुछ यूं है कि मैं वो दोस्ती वाला रिश्ता जो तुमसे साझा किया था वो जगह भी किसी को नहीं दे सकता। तुम याद बहुत आती हो….. !

– अभय

– Nidhi ❤ (15-11-2019 ) ( 9:56PM )

करवा चौथ, चांद और आप ! ❤

Standard

करवा चौथ के दिन चांद का जैसे सब को बेसब्री से इंतजार रहता है, ठीक वैसे ही रोज़ शाम मुझे आपका रहता है। चांद भी बाकी दिन जल्दी आ जाएगा पर करवा चौथ के दिन उसके भी अलग भाव रहते है। वो भी पूरी साज़ सज्जा के साथ आएगा। और भला उसके नाटक हो भी क्यों ना ? पता है उसको भी उसके गए बिना तो यह पर्व पूरा ही नहीं होगा। गौर से देखो अगर उस दिन के चांद को तो उसकी चमक भी कुछ अलग होती है , और सुंदरता भी। हर कोई बार बार जैसे उस दिन आ कर चांद को ढूंढ़ता है वैसे ही रोज़ मैं छत पर आ कर आपकी राह तकती हूं। घंटों बाल्कनी में खड़ी अपने फोन को थामे रहती हूं। जैसे ही आसमान में हल्की सी झलक होती है और लोग खुशी से भागते है चांद की ओर, वैसे ही जैसे ही इस फोन में हल्की सी भी हलचल होती है , दौड़ पड़ती हूं मैं भी उसको खोलने के लिए, आंखों में चमक लिए पर उदासीन हो कर बैठ जाती हूं। दिल जानता है कि आप नहीं आएंगे , दिमाग दिल को समझा रहा होता है की छोड़ दो इंतज़ार , दिमाग बार बार कह रहा होता है कि वो इंसान है, चांद नहीं; जो तुम्हारी तड़प देख कर आ जाएंगे; पर दिल कहां मानने वाला । वो एक छोटी झूठी आस लिए बैठा ही रहता है।

खैर, चांद और आप में एक चीज़ बहुत ही समान है, एकदम चांद की तरह शीतलता है आप में। वहीं चमक , वहीं शांति । जैसे सुकून प्रदान करता है वो अकेला चांद लाखों को, वैसे मेरे जीवन में वहीं सुकून प्रदान करते है आप। लोगों को चांद से भी बहुत शिकायतें होती है वैसे ही मुझे भी होती है ; पर कोई क्या भला मुंह मोड़ पाया है उस चांद से ; बिलकुल वैसे ही कितनी भी तकलीफ़ होती है मुंह नहीं मोड़ पाती आपसे।

करवा चौथ का व्रत तो लोग करते है उनके लिए जिनसे वो प्रेम करते है; उनकी लंबी उम्र के लिए, उनके अच्छे कामना की दुआ करते है। तो इसे धर्म, विवाहित, अविवाहित में बांटने का अधिकार किसी को भी कैसे हो सकता है?

सुनो ना, आज करवा चौथ है; हां जिस चांद से आपकी तुलना कर रही हूं उस ही चांद का दिन और आपका भी। आज तो आओगे ना बिन बुलाए मेरी गली में, चांद से पहले। या जब मैं गुजरूंगी आपकी गली से तो टकरा जाओगे ना मुझे उस ही मोड़ पर। मैं बेसब्री से इंतजार करूंगी आज भी एक झलक सब से पहले आपको ही देखने की। इंतज़ार करूंगी कुछ दो पल सुकून की, दो शब्द राहत के। पूछ लूंगी देखने के बाद भी आपका हाल, और आपके पूछने पर ठीक हूं वाला जवाब भी दूंगी। दिल की बात नहीं कह सकती , यह भी याद रखूंगी! सुनो ना, एक अजनबी सा चेहरा कब इतना खास हो गया यह समझने में बहुत देरी हो गई। इतनी हो गई कि उस खास की अहमियत बढ़ती रहती है। हां चाहा तो था मैंने पूरे रीति रिवाज़ से इस त्योहार को मनाने का। मेहंदी का बहुत बहुत शौक है मुझे, लिखवाना चाहती थी आपका नाम अपने हाथों पर! बहुत बार सब से छुपा कर लिखवाया भी है । शाम को चांद के बाद आपको ही देखने की चाह होगी पर मजबूर हूं , इसलिए दूर दूर से सब कामना करूंगी, आपकी लंबी उम्र की, आपकी खुशियों की! अब आपको अगर कुछ भी ना कहूं तो भी आप समझ लेंगे ना ! किसी ने सच ही कहा है, लड़कियां जब सच्चा प्रेम करती है तो भूल जाती है अपनी हद। पूरी तरह समर्पित करती है खुद को फिर चाहे परिणाम कुछ भी हो। आपको पाने की आस छोड़ दूं, यह दिल को समझाना मुश्किल है ना, आपसे मुंह फेर लूं, इतना दिल को मजबूत बनाने में वक़्त लगेगा ना !

डर लगता है कि कभी सब कुछ बताने से पहले कभी मेरी सांसे धोखा दे जाए तो क्या वो अनकहे शब्दों में ढूंढ लेंगे अपने लिए प्यार या किसी पुरानी किताब के फट्टे हुए पन्नों की तरह भूल जाएंगे मुझे , जो एक कोने में पड़े पड़े भूल गई अपने अस्तित्व को।

अब जब रोज़ उस पत्थर की मूर्ति के आगे आपको पाने की दुआ करती हूं, तो एक कोशिश उस चांद की पूजा कर के कर लिया जाए। सुनते है चांद अधूरे इश्क़ को पूरा करता है! क्या पता , कभी मुकम्मल कर दे वो चांद मेरी कहानी क्यूंकि जिस आसमान में वो चांद रहता है वो भी उतना ही तड़पती है धरती के लिए। मेरी तड़पन का एहसास कर के कर दे आपको मेरे नाम।

सुनो ना, बिना किसी हक का बहुत अधिकार दिखाती हूं आप पर, अब जब इस कहानी की मीरा ही रही, तो विष भी तो मीरा जैसे पीना ही पड़ेगा, अपने कृष्ण के लिए। क्या पता किसी रोज़ कभी सपना सच हो जाए, और बन जाऊं मैं रूक्मिणी , तब तो पूरी होगी ना यह करवा चौथ सही ढंग से।

सब कल्पना ही है, पर तब भी आप सुनो ना ! सुनो ना ! सुनो ना …....❤

– Nidhi (17-10-2019 ) ( 1:45 AM)