WILL YOU STAY?

Standard

BLURB :

Manya Sharma, a shy loner starts her college seeking life beyond her shell to find someone “who will stay?”.
Everything changes when she comes across an enigmatic senior, Shreyansh.
He is alluring, honest, lovable, yet haunted by his dark depressing past.
Manya finds herself under his spell and together they embark on a journey of self discovery, love and bittersweet life lessons.
They attempt to defy all odds, but at what cost?
Peek inside the life of Manya Sharma’s blank canvas and watch as her life explodes into a kaleidoscope of colorful hues, only to fade to black.

“If this love was water, I would’ve drowned in him.”

ABOUT THE AUTHORS :

Vedant Saxena hails from Ghaziabad, a hotel management graduate from IHM Kurukshetra. He was a trainee at Le Méridien, New Delhi, before finding his niche in writing. He is also a self proclaimed grief-counsellor and motivator, who loves to help people, counselled dozens of people out of suicide, as well as people going through depression, anxiety & heartbreak. Apart from this, he loves to cook, read and travel. You can reach out to him through: Instagram–@Vedant_thereal Twitter–@Vedant_thereal.
Annie Pruthi is an old soul which nestles in a body of 17 year girl. She’s from Delhi and an alumni of St. Anthony’s School, currently pursuing her Bachelors from Gargi College, Delhi University. She likes to read and listen music. Instagram: @poetryandpoetess

MY REVIEW :

“Will You Stay” by Vedant Saxena and Annie Pruthi is। one of the best book I read this month. The blurb of the book is simple and one cannot guess much from it but has enough hints that forces one to turn the pages. The cover of the book is amazingly beautiful. The title of the book is actually thoughtful. In the era of broken relationship all over, the title will take you to an emotional zone. There are few books which brings various emotions within one’s heart and this book is one of them. Manya falling in love with her senior Shreyansh. I have always enjoyed reading love stories and for me this book was much relatable. The narrative technique of the authors is brilliant. The authors has made the book interesting by highlighting some parts that a reader would surely connect to. The interesting plot, sensitive emotions and a wonderful story line makes this book a worth reading for everyone.

RATING : 5/5

ORDER THE BOOK FROM : https://www.amazon.in/Will-ANNIE-PRUTHI-VEDANT-SAXENA/dp/9388333225/ref=mp_s_a_1_1?keywords=will+you+stay&qid=1553391821&s=gateway&sr=8-1

Advertisements

The Sun Shines Down

Standard

MY REVIEW :

“The Sunshines Down” by Sankha Ghosh is a fast paced intriguing read. The cover of the book is perfectly amazing and the title is apt. The book shows the dirty side of Competitive exams. The book all about shows corruption in details. The two stories are moving simultaneously and what matters is that author has very well managed to write ii two stories together without creating confusion for readers. Shreya Basu is all set to reveals the dirty secrets of politics. While reading the book I could relate to most of the aspects mentioned in the book. The narrative technique of the author is brilliant and the way the author managed to hold the interest of the reader is brilliant. Overall, a perfect gripping thriller read. Recommending it to everyone reading this review.

RATING : 4/5

ORDER THE COPY FROM : https://www.amazon.in/Sun-Shines-Down-Sankha-Ghosh/dp/9387883418/ref=mp_s_a_1_1?keywords=the+sun+shines+down&qid=1552785186&s=gateway&sr=8-1

VOICE OF THE SOUL

Standard

BLURB :

How does it feel to lie just by yourself and delve into the silence. The silence that is a path to deeper self, a self that is unexplored. That same unexplored self can also be regarded as the soul.
While the time ticks on the clock, a bond with your soul is timeless. Such metaphors are rendered powerless when a conversation is created with oneself.
These poems mean more than just words, they scream soulfulness. It is rather weird that we go looking for answers outside when all that we have to do is seek deeper within ourselves. The poems are experiences that the poet shares with the world, and these experiences are nothing fancy- they are all moments that the poet experiences with himself. They are questions risen from inquisitiveness and introspection.

MY REVIEW :

Voice Of The Soul is a book that I strongly feel that people will love reading. The title of the book is interesting and the cover is designed simple yet beautiful. The blurb of the book is enough to arouse interest in one who pick up this book. The book consists of 61 poems. Although, I am a fan of reading short stories but such poems have aroused my interest in poetry too. The author has mentioned about those incidents which we experience in our daily life. The best part in every poem is that it has a beautiful theme. The poem will make you think certain aspects.

Some poems will touch your heart directly. Time changes People is the first poem and it made me realise how deeply the poet has realised this fact and expressed. When Words Fall Short is another poem that I personally loved. 5 Years Old, Broke, What Is Life, The Dilemma Of Life, The Old Man And Innocent child and Crying soul are my favourite ones from the book. The author very well knew what is read these days. Overall, a wonderful read.

RATING : 4/5

ORDER THE BOOK FROM : https://www.amazon.in/Voice-Soul-Shreyans-Kanswa/dp/8193669711/ref=mp_s_a_1_1?ie=UTF8&qid=1552450477&sr=8-1&pi=AC_SX118_SY170_FMwebp_QL65&keywords=voice+of+the+soul

THE SEARCH WITHIN

Standard

The book is provided by <a href=”https://www.facebook.com/arudhaclub ”> Arudha Club</a> in exchange for a genuine review.

BLURB :
Our lives are but a memorandum of the greatest moments that define us. While some get colored in shades of triumph and happiness, others find meaning in despair and woe.
It is in them, and through various emotions of love, longing, heartbreak, estrangement and soul-searching we encounter along the way, that we finally find ourselves. Rarely do we revisit those forgotten lanes of the heart and dwell in the warmth of their solemnity.
The Search Within, is an extremely personal collection of poems by Anubhav Shrivastava that promises to ring hard on the deepest chords of the heart and pay homage to the gift called Life.

ABOUT THE AUTHOR :
Anubhav Shrivastava is a TEDx Speaker and one of the Youngest Authors of India, having published two Bestselling Books:- ‘One Last Time’ and ‘Letters in the Rain’ by the mere age of 24. Driven by passion, he started quintessentialthought.org, an award winning blog that is known for its poignant posts. He has previously been invited as a Judge and Speaker for various literature and Entrepreneurial summits in colleges like ISB Hyderabad, BITS Pilani, IIT Kanpur, IIT Guwahati, Amity University, etc.

MY REVIEW :

The Search Within by Anubhav Shrivastava is a short read consisting of forty nine poems. The title of the book as well as the cover of the book is perfectly apt. The blurb of the book states it clear that the book share about life experiences. The book will take you back to unfold those pages of life which one have closed long before. Each poem in the book has a deep meaning within those words. Most of the poems are based on those emotions that every human being go through their life. The poem Endless Wait, My Dreams, Broken Heart, Maa, Writer, This Is Me, Timeless, Timeless Regret, When Will I Be Free Of Pain, Thanks For Hurting Me are my favourite poems. The writing style of the author is simple which make the book a fast pace read. Overall, I loved reading all the poems of the book.

RATING : 4/5

ORDER THE BOOK FROM : https://www.amazon.in/Search-Within-Anubhav-Shrivastava/dp/8193890337/ref=mp_s_a_1_1?ie=UTF8&qid=1552447584&sr=8-1&pi=AC_SX118_SY170_FMwebp_QL65&keywords=the+search+within

एक ऐसा सपना…..

Standard

आज रात एक सपना देखा था। वैसे रात नहीं सुबह ही हो गई थी। समय कुछ 5:25am हो रहा था। सपना बहुत भयानक था या यूं कहूं डरावना था। रूह कांप सी गई थी। लेकिन सपना था, हकीकत में आ कर कुछ देर बाद मन शांत हो पाया।

आज कल दिल दिमाग में यहीं कुछ दो तीन चीज़े चल रही। पहली कि बस इस साल नौकरी लग जाए। जीवन में इतनी उथल पुथल चल रही कि ज़िंदा रहने कि कोई ख्वाहिश ही नहीं। ऐसे जीने से मरना ही बेहतर है। और तीसरी अपने प्यार को ना पाने का दुख। इन तीनों के अलावा कोई चौथी बात नहीं चलती मन में। लोग कहते है कि जिस के बारे में ज़्यादा सोचो या जिसके बारे में बात कर के सोते है, अक्सर वहीं सपना हम देखते है । ज़िंदगी ना जीने कि इच्छा तो ऐसी हो गई है कि कभी कभी लगता है कि अगर माता पिता की एक संतान और होती तो शायद मैं कहीं दूर चली जाती। नहीं, आत्म हत्या नहीं करती। पर सब से दूर चली जाती शायद कुछ दिन के लिए ही सही। अपने मन कि शांति के लिए। यह सब ख्याल कुछ देर के लिए मन से निकलते ही है कि सच्चाई दिखने लगती है कि कैसे किसी को दिलो जान से भी चाह कर मैंने हार ही अनुभव किया। “अगर पूरी शिद्दत से किसी चीज़ को चाहो तो सारी कायनात आपको उससे मिलाने में जुट जाती है”, यह एक लाइन ना जाने कितनो के मुंह से सुना और इतनी बार सुना कि यकीन हो गया। लेकिन मेरे हाल में कायनात ने भी मुंह फेर लिया, शायद उसे भी मेरी भावनाएं की कद्र नहीं थी। खैर, जीवन का दस्तूर ही यहीं है।

बस यही कुछ दोनों बात सोचते सोचते शायद कुछ 3 बजे सुबह आंख ही लगी थी, की सपने ने नींद तोड़ दिया।
सपना कुछ यूं था कि शाम को अपने क्लास से निकलने के बाद सड़क पर मैं चल रही थी और मुझे रोड के उस पार जाना था। एक राज़ की बात बताऊं तो रोड क्रॉस करना नहीं आता मुझे अभी भी। दिल्ली में तो अगल बगल किसी को कह देती थी अंकल आंटी रोड क्रॉस करा दो, दरभंगा आ कर यह आदत छोड़ दी। अब खुद आंख बंद कर के क्रॉस कर लेती हूं। बस मैंने अभी पांच कदम ही आगे बढ़ाया था कि एक तेज़ रफ्तार में आती हुई बस ने मुझे मार दिया। कुछ दो सेकंड में ही समझ नहीं आया क्या हुआ। सब धुंधला सा दिखने लगा। चारों तरफ भीड़ जम गई। कोई कहीं फोन लगाए,कोई मेरी जेब टटोल कर शायद मेरा फोन ढूंढ रहा था कि मेरे घरवालों को बता दे। क्यूंकि हादसा मेरे इंस्टीट्यूट के करीब हुआ था, कुछ लोग शायद वहां बताने पहुंच गए। मुझे कानों में आवाज़ आ रही थी लोगो की नहीं बच पाएगी यह।

उस एक क्षण आपसे पहले मम्मी पापा का ही ख्याल आया था। आंखो के आगे अंधेरा गहरा छाने लगा था। पर अपनी आंखे बंद करने से पहले हल्की सी ही एक छवि आपकी देखी। आप भागते हुए आए तो ज़रूर थे लेकिन देरी कर गए। इससे पहले आप कुछ कहते, मैं कुछ कहती सब ख़तम हो गया। आपको देख कर आखिरी दफा मुस्कुराना तो ज़रूर चाहती थी, कहना चाहती थी कि बहुत प्यार था आपसे, अगले जन्म ज़रूर मिलना मुझे, पर मैं बेहोश हो गई। बेहोश नहीं, हमेशा के लिए अलविदा कह गई। मेरी चारो ओर हमेशा के लिए शांति हो गई।

मौत का डर इतना भयानक था, की झट से नींद खोल गई। उठते ही मां को देखा तो गले लगा लिया। वैसे यह मैं कभी करती नहीं, तो मां को आश्चर्य हुआ लेकिन उन्हें सपना नहीं बताया। खौफ बैठ जाता है मन में।
शाम को दीपिका को बताया तो उसने बोला कि अपने मौत का सपना देखा तूने, तेरी उम्र और लंबी होगी। वैसे ऐसी कोई इच्छा नहीं है, पर यह सब किसी के हाथ में नहीं होता।

उठने के बाद कुछ खयाल आए। कुछ सवाल के जवाब ढूंढने चाहे मन ने। सोच रही थी जब ज़िंदगी से लगाव नहीं था, तो मौत का सपने से क्यूं डर गई? मुक्ति मिल तो रही थी,तो आज क्यूं ऐसा महसूस करा गया। शायद मौत चाहिए नहीं, बस जीवन से थका हुआ लगता है। और लड़ने की हिम्मत नहीं बची शायद। हारा हुआ महसूस होने लगा है।
वैसे इन सब सवालों के बाद कुछ और बातें आई थी मन में।
पता है आप जवाब नहीं दोगे, अगर दे दोगे तो अच्छा ही लगेगा और मन शांत हो जाएगा।

अगर यह मेरा सपना नहीं; सच होता, तो आपकी क्या प्रतिक्रिया होती ? क्या आपकी आंखो के सामने मेरा जाना आपकी आंखो में आंसू ला देगा ? क्या आपको तब लगता कि काश एक दफा आपने मुझसेे अच्छे से बात कर ली होती? क्या मेरे मरने के बाद आप लोगो को बता पाओगे मेरे बारे में? क्या आप प्यार का उदाहरण देते वक़्त मुझे सोचोगे ? क्या जब जब सच्ची मोहबब्त या अधूरी मोहब्बत की बातें होंगी तो आपके ज़ेहन में मेरा खयाल आएगा ? क्या मेरी मौत आपको किसी अपने का खोने का एहसास करा पाएगा ? क्या मुझसे कभी नहीं मिल पाने का अफसोस होगा आपको? क्या तब यकीन कर पाओगे कि प्यार ने मुझे बहुत बुरी तरह तोड़ा था ? क्या कभी मेरी याद आएगी आपको ? क्या मेरा लिखा हुआ कभी दुबारा पढ़ोगे ? क्या उन शब्दों में छुपे भावनाएं तब दिल को छू पाएंगी आपके ? क्या मुझे और मेरे इश्क़ को आबाद रखोगे या एक राज़ बना कर दफ़न कर दोगे ? क्या इन सवालों का जवाब कभी दे पाओगे ?

– निधि ❤ (1-2-2019) ( 5:50pm)

BETWEEN YOU AND ME

Standard

BLURB :

A young soul trapped in an old body.

A ticking clock slower than time.

Can this be the ironic destiny of 600 million bright and young Indians? Are we born free and yet trapped by our circumstances?

Between You and Me is a conversation that makes the reader ponder about the much-needed transformational changes for the twenty-first century. Why should we get up to act only when we are pushed to the corner? After all, a stitch in time saves nine. Could it be that the parameters of economics, administration, democracy, and social and political constitutions were all ideated and executed for another era? Will tinkering with these institutions help or are fresh ideas needed?

Encompassing an extensive discussion and analysis of what comprise our society-government, economy, education, healthcare, science, technology and so on-this book gives the reader a holistic view of India and helps in deriving solution-oriented ideas for a new societal design and structure which will ensure a thriving democracy. It presents the hope and aspiration of an ancient society that wants to break through the colonial legacy and land safely into the future. It is a gripping petition with operating models for redefining the citizen’s role-from the audience to the hero-which, if implemented, would bring societal moksha of peace, power and prosperity.

ABOUT THE AUTHOR :

Atul Khanna is a risk-taking, self-taught entrepreneur who is connecting people, cultures and technology, often ahead of its time. He has built enterprises in manufacturing, engineering, machine vision, life sciences and now education by building an Indian-European knowledge corridor over the years. He lives a quiet, joyous life with his family and friends in Pune, India, and travels to Europe for work.

MY REVIEW :

“Between You and Me” – Flight To Societal Moksha is an interesting read. The blurb of the book is enough to arouse interest in one’s mind. The cover of the book is perfect and wonderfully designed. Last but not the least the title says it all.

The book is divided into three parts. Not only per part is important in itself but all the sub parts is important and interesting to read. The book starts with Eklavya and Karna from ancient India. The author has very well explained the need to establish fair opportunity. Moving forward, the author presents teaching from past few years highlighting Jawaharlal Nehru, Mahatma Gandhi, Ambedkar, Indira Gandhi, Jinnah and he moved forward highlighting about the present day leaders like Narendra Modi. The writer provides the structure that is needed. While reading I could just agree to many more points the author has provided. After few chapters, the author talks about equality. The second part of the book talks about administration, case of Jammu and Kashmir and economy of the country. In the last part of the book the author talks about the actual song of India for him is ‘Hanuman Chalisa’. The author ends the book leaving the readers in the state of imagination.

This was the first time when I was reading book of this genre. This book proved to arouse my interest in such genres. I came to know about many facts which were unknown to me. Overall, it was surely a lengthy read. I took three days to complete the book but after finishing I realized that the book was worthy all the time. Recommending it to all those who are interested in knowing in deep about the country.

RATING :4/5

ORDER THE BOOK FROM : https://www.amazon.in/Between-You-Me-Flight-Societal/dp/9386826127/ref=mp_s_a_1_1?ie=UTF8&qid=1548174665&sr=8-1&pi=AC_SX118_SY170_FMwebp_QL65&keywords=between+you+and+me

एक आखिरी मुलाकात हमेशा के अलविदा से पहले

Standard

हम इंसान कितने ही बेवकूफ होते है या यूं कहूं सच्चाई स्वीकार करना ही नहीं चाहते। दो साल तक एक तरफा प्यार की यादें ही ले कर जी रही। हमारी मुलाकातें, हमारी वो दो मिनट की बातें ही इतनी ज़्यादा समा गई मुझ में की उनके सहारे ही दो साल बीता लिया मैंने। तड़पती तो हर एक पल थी की देखूं आपको कैसे भी पर मजबूरियां का बोझ कुछ ज़्यादा ही था । चाह कर भी नहीं आ पाई। यकीन करिए यूं आपकी गलियों से जितनी दफा गुजरी मन में सिर्फ एक ही आस रहती थी काश आपको देख लूं। पर भगवान भी शायद मेरे सब्र का इम्तिहान ले रहे थे। दिखते ही नहीं थे आप। आखरी बार मई 2017 में देखा था आपको। उसके बाद बस आपकी तस्वीरों को देख कर ही खुद को संभालती रही। उस दिन इक्तेफाक से आपके दफ्तर आना हुआ।

पूरे 565 दिन यानि 13,560 घंटे, मतलब 8,13,600 मिनट, मिला जुला कर 4,88,16,000 सेकंड बाद आई आपके दफ्तर। पूरी आशा थी कि आज आपसे मुलाक़ात होगी ही। एक मिनिट ही सही जी भर कर देख तो लूंगी आपको। पर अफसोस किस्मत ने फिर धोखा दे दिया और आप नहीं मिले। निराश मन से लौट आई घर। घर आने के बाद बात हुई आपसे । कुछ अच्छा तो नहीं लग रहा था लेकिन संभाल लिया खुद को। इस उम्मीद के सहारे की जल्द ही तो आपसे मुलाक़ात होगी। यही कुछ 5-6 दिन की तो बात है। अफसोस ये उम्मीद भी टूट गई मेरी। आपने कहा जब मैं कहूंगा तब आना। दुविधा तो हर बार मेरी इस ही बात की रहती है कि आपको याद भी रहेगा मुझे बताना या नहीं। कभी आप भूल गए तो? सच बोलूं हर दफा खुद पूछना भी अच्छा नहीं लगता। कभी आप मेरे सवालों से परेशान हो रहे हो? कभी गुस्सा आ जाए आपको तो? कभी चिल्ला उठे मुझ पर ? बहुत डर लगता है ये सब सोच कर। मैं गलती आपकी भी नहीं देती हूं क्यूंकि आपकी व्यस्था ही इतनी रहती है। कहां आप अपने जीवन के महत्वपूर्ण बातों में मेरे सवाल को याद रखोगे ? फिर भी दिल के हर एक टूटे हुए कर्णं में एक छोटी झूठी उम्मीद के सहारे जी लेती हूं।
कभी कभी आप मेरी उम्मीदों पर खड़े भी उतर जाया करते है। लेकिन कहते है ना हम मनुष्य कभी भी संतुष्ट नहीं होते। वो ही कुछ मेरा भी हाल रहता है। हर बार कुछ बातें और कर लेने की इच्छा रहती ही है। खैर किसकी आज तक सारी ख्वाहिशें पूरी हुई है? और मेरी थोड़ी किस्मत में वैसे ही डिफेक्ट है। जो जो जब जब चाहा है वो पक्का नहीं मिला है।

10 जनवरी को वक़्त था ठीक दोपहर के 12:54 जब आपको देखा मैंने पूरे 602 दिन बाद, 14,448 घंटे बाद । सच मानो दिल कर रहा था थम सी जाऊं वहां और अगल बगल ना हो। आप सामने और मैं एकटक निहारते हुए आपको। बिल्कुल भी नहीं बदले आप। वहीं कोट, वहीं व्हाइट शर्ट, वहीं सिल्वर घड़ी, वहीं कोट के ऊपर वाली जेब में पेन का रखना। दिल को ऐसा सुकून मिला कि शब्द कम पड़ जाएंगे। हमेशा यूं ही कल्पना करती थी कि जब आपको देखूंगी तो जी भर के देख लूंगी पर जब आप सामने आए तो आंखे झुकी की झुकी ही रह गई। एक ज़रा सा हिम्मत कर के मुस्कुरा पाई । बुखार तो ऐसा गायब हुए और शरीर ऐसा ठंडा पड़ा कि खुद भी नहीं समझ पा रही थी कि क्या हो रहा। दिल की धड़कने ऐसे भाग रही हो जैसे मेरी तो यह कभी थी ही नहीं। जाते दफा उस दिन आप फिर मिले। इतने करीब खड़े थे कि खुद को काबू करना मुश्किल था, बहुत ज़्यादा। वो ही डियो लगाते है अब भी आप। अब जिस इंसान की मैं परछाई भी पहचानने लगी हूं उसके बारे में इतना ज़्यादा ज्ञात होना लाज़मी भी है। बहका जाते है आप अक्सर मुझे।

मिलने का सिलसिला रहने वाला था। मेरा दिल कुछ दिन के लिए फिर खुश होने वाला था। पर इस बार बहुत डरी हुई थी मैं। क्यूं ? इसके बाद हम शायद कभी नहीं मिलेंगे। आप के दफ़्तर आने के बहाने भी काम नहीं करेंगे। देखने की इच्छा होगी तो क्या करूंगी ? मिलने का मन होगा तो इस बार तो मौका भी नहीं मिलेगा।

आपसे मोहब्बत क्यूं कर बैठी इसके तो बहुत जवाब है मेरे पास। पर कब कर बैठी यह तो खुद को भी एहसास नहीं हो पाया। शायद तब जब आपसे कोई बहस कर रहा था और आप चुप रह कर बात ख़तम कर रहे थे । आप के पास अधिकार था उसको मार बैठने का मगर फिर भी आप ने बहस नहीं करना बेहतर समझा। उस समय आपके शांतिप्रिय स्वभाव पर दिल हार बैठी थी मैं। या शायद जब आपने पहली बार मेरी समस्याओं को सुलझाने की कोशिश की थी। बहुत अपनापन सा महसूस करा बैठते है आप। शायद तब भी दिल में कुछ महसूस सा हुआ। जब पहली बार आपको अपना लेख भेजा था और आप इतने प्रभावित हो गए की तारीफ करते नहीं थक रहे थे। सच कहूं उस लेख से अपने मुझे भी प्यार हो गया है। वैसे आप लेख की तारीफ कर रहे थे यह नहीं समझे की आपके लिए ही लिखा था पर तब भी आपने पढ़ा था इसकी बहुत संतुष्टि थी।

भले ही आपने कभी बताया नहीं तब भी मुझे पता है कि कुछ महीने आप 4:45 am सुबह उठ जाते हो और कुछ महीने 6 बजे के बाद। रात में सोने का समय शायद 12 महीने एक जैसा ही है। हमारी कितनी ही दफा सुबह बात हुई। सच कहूं बहुत मुश्किल होता है इतनी सुबह उठ बैठना। पर आपसे एक झलक बात हो जाए उस आस में उठ जाती हूं। पता है कि दफ़्तर से आने के बाद आप बहुत थका हुए महसूर करते होंगे इसलिए नहीं कर पाते बात। मुझे आपके व्यवहार से प्यार हो गया था और कभी आपकी बातों से। आपका मुस्कुराता चेहरा ज़ेहन में कैद कर लिया था। कभी कभी आपसे मैं इतनी फ़िज़ूल प्रश्न पूछ बैठती हूं कि बाद में खुद पर हसी आती है। लेकिन बेसब्र दिल करे भी क्या ? मैं इतना नादान जैसी हरकतें भी कर सकती हूं मुझे पता नहीं था। सच बोलूं अनजानों के सामने आपके बारे में बात करने में कतराती हूं मैं। कहीं यूं ना हो कि कोई आपका नाम ले और मेरे गाल झट से लाल हो जाए। चेहरे पर इतनी बड़ी मुस्कान छा जाती है। कभी किसी ने पकड़ लिया तो? मैं अपने इश्क़ के बारे में सबको नहीं बताना चाहती। नहीं चाहती सब जाने मेरे मन के राज को। आप मेरे हो तो नहीं, फिर भी आपको खोने का डर इतना ज़्यादा है कि कभी कभी आधी रात को नींद खुल जाता है इस भय से। आपको अपने मन की बात कहने कि हिम्मत जुटाई।

बहुत बार मैंने आपको कहा होगा कि ‘एक बात पूछूं ‘ या फिर ‘ एक बात बोलूं ‘ और जैसे ही आप हां बोल देते पता नहीं हिम्मत कहां मर जाती है। कुछ और ही पूछ बैठती हूं। आपसे एक दफा पूछा कि आपको गुस्सा भी आता है? आपने जवाब में हां बोला तो मानो मेरी हिम्मत ख़तम सी हो गई। वैसे आज तक आपने मुझे कभी डांटा नहीं , पर कभी डांट देंगे तो। आपका छोड़िए , खुद का भी सामना करना मुश्किल हो जाएगा मेरे लिए। कैसे कदम बढ़ा पाऊंगी आपकी ओर ?

पता है जब आपके सामने होती हूं तो सब से छुप कर, आपसे भी चुरा कर आपको जी भर देखती हूं। बस वहीं तो कुछ पल मेरे अपने है। जैसे ही आपकी नज़र मुझ पर पड़ती है मैं झट से हटा जाती हूं। जिस दिन आपसे बात और आपसे मिलना दोनों हो जाए उस दिन अगर जग के लिए अमावस्या भी होती है तो भी मेरे लिए पूर्णमासी होती है। सब के सामने मुझे आपसे बात करने में घबराहट सी होती है। नहीं कर पाती। बस यहीं कुछ चंद मैसेज में जीवन सिमटी है

मैं कभी ऐसी सी भी हो जाऊंगी मुझे खुद विश्वास नहीं हो पता। ” प्यार व्यार सब बेकार की चीजें है ” यह एक लाइन मानो मैंने कितनी दफा कितने ही लोगों को बोली होगी और आज खुद ऐसा एकतरफा इश्क़ हो गया जैसे की उससे निकलने का या तो जी नहीं चाह रहा या हिम्मत नहीं जुटा पा रही। बहुत बार सोचा था एक बार बोल डालती हूं और मामला ख़तम। लेकिन कहीं मामला और गहरा ना हो जाए। इस बात का तो पूरा यकीन है मुझे की आपको ना मुझसे कोई लगाव है और ना कोई प्यार। आपको एक ज़रा फर्क नहीं पड़ेगा कभी मैं यूं अचानक गायब भी हो जाऊं तो! फिर भी पता नहीं क्यूं इतने ज़रूरी हो गए आप।

समझ नहीं आता कैसे संभाला जाए खुद को? खुद से ही सवाल पूछती हूं, खुद में जवाब ढूंढती हूं। खुद से लड़ती हूं, खुद से तंग आ जाती हूं। खुद में बेचैन रहती हूं। खुद को तकलीफ़ में देखती हूं। खुद पर दया आती है। खुद को इतना असहाय मानती हूं। इतना मजबूर शायद कभी नहीं हुई थी मैं !!!

शायद इतना इश्क़ भी पहले नहीं हुआ था ना। वैसे एक बात के लिए मैं हमेशा आपकी शुक्रगुजार रहूंगी और वो यह की आपकी वजह से मैंने हिंदी लिखना शुरू किया। आपने एक बार यह क्या कहा कि हिंदी में लिखा करो, मानो मैंने उसे पत्थर की लकीर मान ली हो और बस हिंदी का दामन ही थाम लिया हो। मुझे बहुत आश्चर्य होता है जब मैं अपनी राशि पढ़ने से पहले अापकी राशि पढ़ती हूं। कभी कभी आपको भेज भी देती हूं। वैसे आपने बताया था कि आपको थोड़ा बहुत ही यकीन है इन सब पर तब भी कभी लिखा सच हो गया इसलिए भेज डालती हूं।

मुझे पता है कुछ महीने बाद शायद ही हम मिल पाए। शायद तब जब मेरी भी नौकरी लग जाए तब शायद एक बार मुलाक़ात हो। ज़रूरी नहीं पर की होगी ही। आप तब इस शहर में नहीं भी हो सकते। खैर, भविष्य किसने देखा है इसलिए सोचा हमेशा के लिए अलविदा कहने से पहले एक बार आखिरी मुलाक़ात हो जाए। हां हां पता है हम मिल नहीं सकते बस दूर से देख सकते है एक दूसरे को। लेकिन फिर भी मुझे अपनी दिल की बात कहनी है। इश्क़ कबूल करना है। अब इसका परिणाम जो भी हो मुझे स्वीकार है लेकिन दिल में दबा कर मर जाना मंजूर नहीं। और सुनिए , मुझे अस्वीकार करने की ठानी हो तो हिचकिचाना मत।
सच बोलूं आप मुझे स्वीकारेंगे इसकी कोई आस नहीं थी कभी मुझे। झूठे ख्वाब पालने की आदत नहीं है मुझे। पता ही है कि आपके काबिल नहीं हूं मैं।

बस आपके सामने इश्क़ कबूलने की हिम्मत बांधने में देरी हुई है बाकी मैं बहुत साहसी हूं। हर ग़म सहने की आदत है और वो भी मुस्कुराते हुए। दिल्ली छोड़ने से बड़ा गम मेरे जीवन में होगा आपको खोना लेकिन किस्मत से बड़ा कुछ नहीं हो सकता। और होता वहीं है जो मंजूरे खुदा होता है इसलिए बस एक दफा मुझसे आराम से बात कर लीजिएगा मुझे इतने में ही जीवन भर की संतुष्टि मिल जाएगी।

बहुत चाह है आपको जी भर जानने की। कम से कम जिससे इश्क़ हुआ है उसको पूरी तरह जान तो लूं। आपकी कहानियां को भी जान पाऊं। आपको अच्छी तरह समझ पाऊं। वो हिकिचाहट का पर्दा हटा पाऊं हमारे बीच से। अपनी लिखी बातें कह जाऊं आपको। आपसे आपका पसंदीदा मौसम जानने का जी चाहता है? आपका पसंदीदा रंग? आपका पसंदीदा गीत? क्या आपको भी मेरी तरह धोनी पसंद है या आप किसी और खिलाड़ी को बेहतर समझते है। लेकिन पूछ नहीं पाती। कभी कभी सोचती हूं काश आप ही कुछ ऐसी बात की शुरुवात कर दे कि मैं हौसला बांध पाऊं। आपका गाया वो एक गाना मैंने कितनी ही बार सुना होगा उसका कोई अंत नहीं है। इतनी बार सुना कि आप ने उस गीत को गाते वक़्त कहां कहां तहराव लिया है वो भी याद हो गया है। आपकी हर एक तस्वीर को मानो ज़ेहन में उतार डाली हो। शिकायत भी है आपसे। इतनी तस्वीरें डाली आपने लेकिन कभी मेरे पसंद कि उस हाफ ग्रे जैकेट में नहीं डाले। कितनी दफा आपसे बात करते वक़्त यूं ही बोली होगी यह बात मैंने। पर हर बार आप हस कर टाल देते है मेरी भावनाओं को। एक बार आपने मुझसे पूछा भी कि यह जैकेट की बात तुमने मुझसे कहीं थी। जब मैंने हां बोला तो आपने उस बात को अधूरा छोड़ना बेहतर समझा। आपकी तरह गाना तो आता नहीं । अगर आता तो यह गाना ज़रूर गा देती। ऐसा लगता है कि कौसर मुनीर ने मेरे लिए ही लिखा है यह गाना।

“माना कि हम यार नहीं, लो तय है कि प्यार नहीं
फिर भी नज़रे ना तू मिलाना, दिल का एतबार नहीं ।”

आपके लिए 100 क्रश डायरीज लिख डाली, इतने लेख लिख डाले। लोग मज़ाक उड़ाने लगे है। कहते है किताब ही लिख डालो। खैर पता नहीं आप यह लेख पढ़ेंगे या नहीं और पता नहीं भविष्य में हमारी बात हो या ना हो पर जब जब आप अपनी अलमीरा में टंगे अपनी ग्रे हाफ जैकेट को देखेंगे चेहरे पर एक मुस्कान और मेरी याद आपको दोनों एक साथ ज़रूर आएगी । मुझे नहीं पता आपकी यह सब पढ़ने के बाद क्या प्रतिक्रिया होगी, आप कैसे बर्ताव करेंगे। पर एक जवाब ज़रूर दे जाइएगा। अच्छा या बुरा कुछ भी कह जाइएगा। अधूरी ना छोड़ना इन बातों को। और ना यह कहना की क्या जवाब दूं कुछ समझ नहीं आया। जो मन में आए बोल डालना। खुद को कैसे समझाना है और संभालना है वो मुझे बहखुबी आता है। पता नहीं आपको किस नाम से बुलाऊं, क्रश, मोहब्बत या ज़िन्दगी।
यह जो कुछ दिन हम मिल रहे है ना इसके बाद शायद ही मिले। एक आखिरी मुलाक़ात हमेशा के अलविदा से पहले।

एहसान तेरा होगा मुझ पर
दिल चाहता है वो कहने दो
मुझे तुमसे मोहब्बत हो गई है
मुझे पलको की छाव में रहने दो !

याद है मैंने आपको कहा था एक बार मेरे सारे लेख एक साथ पढ़ने। वक़्त मिले तो पढ़ लीजिएगा । लिंक नीचे डाल दिए है।

1. https://wp.me/p5ircX-fe

2. https://wp.me/p5ircX-ia

3. https://wp.me/p5ircX-jb

4. https://wp.me/p5ircX-jx

5. https://wp.me/p5ircX-jC

6. https://wp.me/p5ircX-jR

– Nidhi ❤ (11-1-2018) ( 11:00 pm )